‘जहां चाह वहां राह’, ‘कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती’ ये कुछ ऐसी कहावतें हैं जो मध्य प्रदेश के यश सोनकिया पर एकदम सटीक बैठती है. सोनकिया पूरी तरह से दृष्टिबाधित हैं लेकिन इसके बावजूद उन्हें दुनिया की सबसे बड़ी आईटी कंपनियों में से एक माइक्रोसॉफ्ट से 47 लाख रुपये सालाना पर नौकरी का ऑफर प्राप्त हुआ है. बता दें कि एक बीमारी के कारण 8 साल की उम्र में सोनकिया की देखने की क्षमता बिलकुल खत्म हो गई थी. बावजूद इसके वह इंजीनियर बनें और इस मुकाम तक पहुंचे.

सोनकिया मध्य प्रदेश के इंदौर शहर के रहने वाले हैं और उनकी उम्र 25 वर्ष है. उन्होंने 2021 में इंदौर के श्री गोविंदराम सेकसरिया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड से साइंट से बीटेक की डिग्री प्राप्त की थी. कॉलेज के एक अधिकारी ने इस ऑफर की पुष्टि की है. सोनकिया ने यह ऑफर स्वीकार कर लिया है. कंपनी ने उन्हें बेंगलुरु ऑफिस के लिए भर्ती किया है. फिलहाल उन्हें वर्क फ्रॉम होम दिया गया है. उन्हें सॉफ्टवेयर इंजीनियर के तौर पर भर्ती किया गया है.

ग्लूकोमा ने छीनी दृष्टि

यश सोनकिया जब आठ साल के थे तब ग्लूकोमा नामक एक बीमारी के कारण उनकी दृष्टि पूरी तरह खत्म हो गई. उससे पहले सोनकिया के परिवार ने उनकी नजर बचाने के लिए काफी प्रयास किए लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. उनके पिता ने बताया कि यश के इलाज के लिए कई ऑपरेशन भी कराए गए थे. यश सोनकिया के पिता यशपाल सोनकिया एक कैंटीन चलाते हैं

अपनी उपलब्धि के बारे में बताते हुए यश कहते हैं कि विशेष तकनीक वाले स्क्रीनरीडर सॉफ्टवेयर की मदद से उन्होंने बी टेक की पढ़ाई पूरी की. इसके बाद उन्हें नौकरी ढूंढने में मेहनत करनी पड़ी. यश ने कोडिंग सीखी और माइक्रोसॉफ्ट में भर्ती की अर्जी दी. ऑनलाइन परीक्षा और इंटरव्यू के बाद माइक्रोसॉफ्ट में सॉफ्टवेयर इंजीनियर के पद पर चुना गया है.

बहन ने की पढ़ाई में मदद

यश की पांचवीं कक्षा तक की शिक्षा दिव्यांग स्कूल में पूरी हुई. इसके बाद उन्हें रेगुलर स्कूल में शिफ्ट कर दिया गया. यहां पढ़ाई में, विशेषकर मैथ्स और साइंस में उनकी बहन ने मदद की.