झारखंड में 20 सितंबर से कक्षा 6 से 8 तक के स्कूल खुलने जा रहे हैं. इसको लेकर सरकार और प्रशासन की ओर से निर्देश जारी किये गये हैं. विद्यार्थी, शिक्षक और स्कूलकर्मियों को मॉस्क लगाकर स्कूल आने होंगे. कोरोना महामारी के चलते देश के अधिकतर राज्यों में पिछले कई महीनों से स्कूल और कॉलेज बंद चल रहे थे. लेकिन अब धीरे-धीरे स्कूल खोले जाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है. कोरोना महामारी के चलते बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही थी. ऑनलाइन क्लास चल रहे थे. अब कोरोना के मामलों में कमी को देखते हुए झारखंड सरकार ने भी स्कूल खोलने का फैसला लिया है.

इससे पहले 9वीं से 12वीं तक के स्कूलों को खोला गया था. आवासीय विद्यालयों में भी ऑफलाइन पढ़ाई शुरू की गई थी. अब छठी से 8वीं तक के स्कूल खोलने का फैसला लिया गया है. इसके लिए केंद्र और राज्य सरकार की ओर से जारी सभी दिशा-निर्देशों का पालन करने का आदेश स्कूलों को दिया गया है.

आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि 9वीं से 12वीं तक के स्कूलों और आवासीय विद्यालयों में पहले की तरह ऑफलाइन पढ़ाई जारी रहेगी. वहीं स्कूल खोलने को लेकर केंद्र और राज्य सरकार की ओर से जारी सभी दिशा-निर्देशों का पालन करने का निर्देश दिया गया है. सभी विद्यार्थी, शिक्षक और स्कूलकर्मी मॉस्क लगाकर आएंगे. डिजिटल पढ़ाई की भी सुविधा जारी रहेगी. क्लास में उपस्थिति अनिवार्य नहीं होगी. हालांकि स्कूलों में सामूहिक सांस्कृतिक कार्यक्रम पर प्रतिबंध रहेगा. ऑफलाइन टेस्ट और परीक्षाएं नहीं होंगी.

आदेश में कहा गया है कि शिक्षकों के लिए कोविड-19 टीकाकरण अनिवार्य होगा. जिला प्रशासन की ओर से इस संबंध में समय-समय पर जांच अभियान चलाया जाएगा. स्कूल में एसी का कम से कम उपयोग और शुद्ध हवा के लिए खिड़की- दरवाजे को खुला रखने की सलाह दी गयी है. कक्षा 6 से 12वीं तक के क्लास अधिकतम चार घंटे चलेंगे.