भारतीय रिजर्व बैंक यानी आरबीआई (RBI) की ओर से रेपो रेट में बढ़ोतरी के बाद बैंकों ने भी कर्ज की ब्‍याज दरों में इजाफा शुरू कर दिया है. लोन पर ब्याज दर बढ़ने के अलावा बैंक जमा पर भी ब्याज दरों में इजाफा होने लगा है. इस बीच पब्लिक सेक्टर के सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया (Central Bank of India) ने भी अपने फिक्स्ड डिपॉजिट यानी एफडी (FD) की दरों को बढ़ा दिया है. बैंक की नई दरें 10 जून से प्रभावी हो गई हैं.

सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के एफडी रेट्स

सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया 2 करोड़ रुपये से कम राशि वाले 7 से 14 दिन के फिक्स्ड डिपॉजिट पर 2.75 फीसदी ब्याज देगा. ग्राहकों को 15 से 45 दिन पर 2.90 फीसदी, 46 से 90 दिन पर 3.25 फीसदी, 91 से 179 दिन पर 3.80 फीसदी ब्याज मिलेगा. बैंक 180 से 364 दिन के लिए 4.35 फीसदी ब्याज देगा. एक साल से दो साल के लिए 5.20 फीसदी और 2 से 3 साल के लिए 5.30 फीसदी ब्याज मिलेगा.

36 दिनों के अंदर RBI ने दो बार बढ़ाया रेपो रेट

गौरतलब कि आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने 8 जून, 2022 को रेपो रेट में 50 बेसिस पॉइंट्स की बढ़ोतरी का ऐलान करते हुए इसे 4.40 फीसदी से बढ़ाकर 4.90 फीसदी कर दिया था. इससे पहले केंद्रीय बैंक ने 4 मई, 2022 को ही रेपो रेट में 40 बेसिस पॉइंट्स की बढ़ोतरी करते हुए इसे 4.00 फीसदी से बढ़ाकर 4.40 फीसदी किया था.

रेपो रेट बढ़ने के बाद कई बैंक बढ़ा चुके हैं FD पर ब्याज दरें

प्राइवेट सेक्टर के डीबीएस बैंक (DBS Bank) ने गुरुवार को फिक्स्ड डिपॉजिट पर ब्याज दरों में बढ़ोतरी की घोषणा की है. बैंक ने छोटी अवधि की अवधि के लिए भी फिक्स्ड डिपॉजिट ब्याज दरों में 50 बेसिक पॉइंट यानी 0.50 फीसदी की आकर्षक बढ़ोतरी की है. ब्याज की नई दरें 9 जून, 2022 से प्रभावी हो चुकी हैं.

कोटक महिंद्रा बैंक  ने भी फिक्स्ड डिपॉजिट पर ब्याज दरों में बढ़ोतरी की घोषणा की है. बैंक ने फिक्स्ड डिपॉजिट पर ब्याज दरों में 10 से 15 बेसिस पॉइंट यानी 0.10 फीसदी से 0.15 फीसदी तक का इजाफा किया है. बैंक की नई ब्याज दरें ब्याज दरें 10 जून, 2022 से प्रभावी हो गई है.