गूगल की नई पॉलिसी आज (11 मई) से लागू हो रही है. गूगल ने अपनी नई नीति को लेकर पिछले महीने बताया था कि Play Store से सभी कॉल रिकॉर्डिंग ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिया जाएगा. Play Store नीति में बदलाव आज, यानी कि 11 मई से हो गया है. जानकारी के लिए बता दें कि इनबिल्ट कॉल रिकॉर्डिंग फीचर के साथ आने वाले फोन में कोई बदलाव नहीं होगा. क्यूपर्टिनो स्थित टेक दिग्गज कई सालों से कॉल रिकॉर्डिंग ऐप्स और सेवाओं के खिलाफ है. ऐसा इसलिए है क्योंकि कंपनी का मानना ​​है कि कॉल रिकॉर्ड करना यूजर्स की प्राइवेसी के साथ छेड़छाड़ है.

उसी की वजह से, Google के अपने डायलर ऐप पर कॉल रिकॉर्डिंग सुविधा पर एक ‘this call is now being recorded’ अलर्ट के साथ आती है, और रिकॉर्डिंग शुरू होने से पहले दोनों तरफ स्पष्ट रूप से सुनाई देती है.

एंड्रॉयड 10 में गूगल ने कॉल रिकॉर्डिंग को डिफॉल्ट रूप से ब्लॉक किया है. इसलिए प्रतिबंध से बचने के लिए, Play Store ऐप्स ने कॉल रिकॉर्ड करने के लिए एक्सेसिबिलिटी एपीआई का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया. आज से Google द्वारा नए बदलाव लागू करने के बाद ये मुमकिन नहीं होगा.

गूगल ने कहा कि Google की पॉलिसी सिर्फ Play Store पर थर्ड पार्टी कॉल रिकॉर्डिंग ऐप्स तक ही सीमित है. Mi डायलर वाले Google Pixels या Xiaomi फोन जैसे फोन पर नेटिव कॉल रिकॉर्डिंग फंक्शन प्रभावित नहीं होगा.

इसलिए, अगर आप एंड्रॉयड स्मार्टफोन पर कॉल रिकॉर्डर फीचर का इस्तेमाल करना चाहते हैं, तो कुछ ब्रांड हैं जो इसे अपने डिवाइस में इसे इन-बिल्ट फीचर के रूप में पेश करते हैं. लिस्ट में Xiaomi/ Redmi/ Mi, Samsung, ओप्पो, पोको, वनप्लस, रियलमी, वीवो और टेक्नो शामिल है.

Truecaller ने हटाया ‘call recording’ फीचर

बता दें कि Google द्वारा कॉल रिकॉर्डिंग ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा के एक दिन बाद, Truecaller ने अपने प्लेटफॉर्म से कॉल रिकॉर्डिंग सुविधा को हटाने की बात बताई. ट्रूकॉलर के प्रवक्ता ने कहा, ‘अपडेट की गई Google डेवलपर कार्यक्रम नीतियों के अनुसार, हम अब कॉल रिकॉर्डिंग की पेशकश करने में असमर्थ हैं. ये उन डिवाइस को प्रभावित नहीं करेगा जिनके पास डिवाइस में मूल रूप से निर्मित कॉल रिकॉर्डिंग है.’