सार्वजनिक क्षेत्र के पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने भी कर्ज पर अपनी ब्याज दरें बढ़ा दी हैं. पीएनबी ने रेपो आधारित ब्याज दर 0.40 प्रतिशत बढ़ाकर 6.90 प्रतिशत कर दिया है. पीएनबी ने शुक्रवार को शेयर बाजार को दी सूचना में कहा कि मौजूदा ग्राहकों के लिये एक जून, 2022 से आरएलएलआर 6.50 प्रतिशत से बढ़ाकर 6.90 प्रतिशत कर दिया गया है. नये ग्राहकों के लिये संशोधित आरएलएलआर सात मई, 2022 से प्रभावी होगी.

इससे पहले, रिजर्व बैंक के नीतिगत दर में वृद्धि के बाद आईसीआईसीआई बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा और बैंक ऑफ इंडिया ने भी रेपो आधारित ब्याज दर में वृद्धि की थी. पीएनबी द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी के बाद आपकी ईएमआई भी बढ़ जाएगी. साथ ही नए लोन लेने वालों को ज्यादा ब्याज देना पड़ेगा.

हालांकि पीएनबी ग्राहकों के लिए एक राहत की भी बात है. बैंक ने विभिन्न अवधि की मियादी जमा पर भी ब्याज दरों में वृद्धि की है. 2 करोड़ के कम के टर्म डिपॉजिट के लिए ब्याज दरें एक साल की अवधि वाले जमा पर 5 परसेंट से बढ़ाकर 5.10 फीसदी कर दिया है. संशोधित ब्याज दरें आज शनिवार से लागू होंगी.

ICICI Bank ने भी बढ़ाया MCLR

प्राइवेट सेक्टर के ICICI Bank ने भी एक दिन पहले अपने MCLR को 0.40% बढ़ाया था. अब बैंक का MCLR 8.10% होगा. बैंक की वेबसाइट के मुताबिक उसने रेपो रेट से लिंक अपने ICICI Bank External Benchmark Lending Rate (I-EBLR) को रेपो रेट जितना ही बढ़ा दिया है. नई दर 8.10% की होगी जो 4 मई 2022 से लागू हो गई है. किसी भी बैंक का एमसीएलआर, असल में वो न्यूनतम ब्याज दर होती है, जिससे कम ब्याज पर बैंक ऋण नहीं दे सकता.

HDFC बढ़ा चुका है ब्याज दर

आईसीआईसीआई बैंक से पहले HDFC भी अपनी लोन ब्याज दर बढ़ा चुका है. एचडीएफसी ने अपने रिटेल प्राइम लेंडिंग रेट (RPLR) में 0.05% की बढ़ोतरी की है. ये नई दरें 1 मई 2022 से मान्य हैं. बैंक ने साफ किया है कि एडजस्टेबल रेट होम लोन (ARHL) स्कीम के तहत होम लोन के लिए आवेदन करने वाले ग्राहकों के लिए नई ब्याज दर 0.05% बढ़ जाएगी और ये उनके ब्याज की रीसेट डेट से ही लागू होगी.