मोबाइल का इस्‍तेमाल जिंदगी बेहद आसान बना देता है, लेकिन डिब्रूगढ़ से दिल्‍ली जा रहे विमान में हुई एक घटना से सैकड़ों की जान पर बन आई. इसकी जानकारी नागर विमानन महानिदेशालय (DGCA) ने दी है.

DGCA के एक अधिकारी ने बताया कि इंडिगो (IndiGo) के विमान संख्‍या 6E 2037 ने बृहस्‍पतिवार को डिब्रूगढ़ से दिल्‍ली के लिए उड़ान भरी थी. अभी उड़ान भरे कुछ ही समय हुआ था और विमान बीच आसमान में था, तभी केबिन क्रू के सदस्‍य ने एक यात्री की मोबाइल से धुआं निकलते देखा. उसने तत्‍काल फायर एक्‍सटिंग्विशर से धुएं पर काबू पाया और एक बड़े हादसे को टाल दिया.

बैटरी गर्म होकर सुलगने लगी

इंडिगो ने एक बयान जारी कर बताया कि उड़ान के दौरान एक पैसेंजर की मोबाइल की बैटरी असमान्‍य रूप से गर्म हो गई और सुलगने लगी. हमारे केबिन क्रू के सदस्‍य किसी भी अप्रिय घटना को हैंडल करने के लिए पूरी तरह प्रशिक्षित होते हैं और यही कारण रहा कि बिना किसी घबराहट के उसने तत्‍काल स्थिति पर काबू पा लिया. समय रहते इस हादसे को टाल दिया गया और किसी भी यात्री अथवा प्रॉपर्टी को कोई नुकसान नहीं पहुंचा.

दोपहर में सुरक्षित उतर गया विमान

DGCA की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार, डिब्रूगढ़ से दिल्‍ली के लिए उड़ान भरने वाली इंडिगो की फ्लाइट में इस हादसे की सूचना मिली है, लेकिन विमान के क्रू सदस्‍य की सतर्कता से किसी भी अप्रिय घटना को टाल दिया गया. न तो किसी यात्री को कोई नुकसान पहुंचा है और न ही विमान को. दोपहर करीब 12.45 बजे विमान सुरक्षित रूप से दिल्‍ली में उतार लिया गया.

पांच साल पहले बैन हो गया था सैमसंग का मोबाइल

उड़ान के दौरान मोबाइल में आग पकड़ने की यह घटना कोई पहली बार नहीं हुई है. साल 2016 में ऐसी ही एक घटना के बाद सैमसंग गैलेक्‍सी नोट 7 के मोबाइल को विमान में ले जाने से प्रतिबंधित कर दिया गया था. तब इस फोन में आग लगने और ब्‍लास्‍ट होने की कई घटनाएं सामने आईं थी. कंपनी की गिरती इमेज और बिक्री को देखते हुए इस फोन को पूरी तरह बंद कर दिया गया.

वैसे भी यात्रियों को विमान में चढ़ने से पहले कई तरह की हिदायतें दी जाती हैं, जिसमें किसी भी खतरनाक उपकरण या उत्‍पाद को विमान में ले जाने की मनाही होती है.