भारतीय शेयर बाजार  ने सोमवार को ग्‍लोबल मार्केट के दबाव में लाल निशान पर खुलकर ट्रेडिंग की शुरुआत की. निवेशकों की मुनाफावसूली की वजह से सेंसेक्‍स और निफ्टी में बड़ी गिरावट दिखने लगी.

सेंसेक्‍स ने सुबह 114 अंकों के नुकसान के साथ 59,333 पर खुलकर ट्रेडिंग की शुरुआत की जबकि निफ्टी ने 43 अंकों की गिरावट के साथ 17,741 पर खुलकर कारोबार शुरू किया. बाजार में गिरावट देख निवेशक बिकवाली पर उतर आए जिससे दोनों ही एक्‍सचेंज पर नुकसान का दायरा और बढ़ गया. सुबह 9.25 बजे सेंसेक्‍स 379 अंक गिरकर 59,068 पर ट्रेडिंग करता दिखा जबकि निफ्टी 89 अंकों के नुकसान के साथ 17,695 पर आ गया.

दबाव में दिख रहा आईटी सेक्‍टर

निवेशकों ने आज के शुरुआती कारोबार में आईटी सेक्‍टर के स्‍टॉक में जमकर बिकवाली की है, जिससे आईटी सेक्‍टर में दबाव दिख रहा. हालांकि, पावर सेक्‍टर के शेयरों ने बाजार में धूम मचा दी. शुरुआती कारोबार में Infosys, Kotak Mahindra Bank, HDFC Bank, SBI Life Insurance और HDFC के शेयरों में बड़ी गिरावट दिखी रही जिससे ये स्‍टॉक टॉप लूजर्स की श्रेणी में आ गए.

इन शेयरों में लगा रहे दांव

दूसरी ओर, Tata Motors, Tech Mahindra, Grasim Industries, Cipla और NTPC जैसी कंपनियों के शेयरों में तेजी दिख रही और ये स्‍टॉक टॉप गेनर की कैटगरी में पहुंच गए हैं. इसरो प्रोजेक्‍ट पर बड़ी बोलियां आने से हिंदुस्‍तान एयरोनॉटिक्‍स के शयरों में 52 हफ्ते की ऊंचाई दिख रही है. बीएसई पर गिरावट का आलम ये रहा कि आज सेंसेक्स के 30 में से 19 शेयर लाल निशान में ट्रेड कर रहे हैं.

इक्विटी म्‍यूचुअल फंड में मार्च में आए रिकॉर्ड निवेश का बाजार का सपोर्ट मिल रहा. यही कारण है कि ग्‍लोबल मार्केट के प्रेशर के बावजूद बाजार में बड़ी गिरावट नहीं दिख रही. मार्च में इक्विटी म्‍यूचुअल फंड में ही 28,464 करोड़ रुपये का निवेश आया है. आज कारोबार में रुचि सोया और अडाणी ग्रीन के शेयरों में 7 फीसदी से ज्‍यादा का उछाल दिख रहा है

एशियाई बाजारों में दिखी गिरावट

एशिया के सभी बाजारों में सोमवार सुबह गिरावट का माहौल है. सिंगापुर स्‍टॉक एक्‍सचेंज पर आज सुबह के कारोबार में 0.30 फीसदी की गिरावट दिख रही थी. जापान का निक्‍केई भी 0.57 फीसदी के नुकसान पर ट्रेडिंग कर रहा था. इतना ही नहीं हांगकांग के बाजार में 1.85 फीसदी और ताइवान में 0.31 फीसदी की गिरावट दिख रही है. दक्षिण कोरिया के कॉस्‍पी स्‍टॉक एक्‍सचेंज पर 0.30 फीसदी और चीन के शंघाई कंपोजिट पर 1.20 फीसदी का नुकसान दिख रहा है.