एक्सिस बैंक ने विभिन्न सेविंग्स अकाउंट के लिए मिनिमम बैलेंस की लिमिट बढ़ा दी है. इसका अर्थ यह हुआ कि फाइन से बचने के लिए अब आपको अपने सेविंग्स अकाउंट में अधिक बैलेंस रखना होगा. यही नहीं, प्राइवेट सेक्टर के इस बैंक ने फ्री कैश ट्रांजेक्शन की लिमिट को 2 लाख रुपए से घटाकर 1.5 लाख रुपए कर दिया है. ये बदलाव 1 अप्रैल 2022 से लागू हो गए हैं.

मेट्रो, अर्बन एरिया में ईजी सेंविंग्स और इसी तरह के अकाउंट मिनिमम बैलेंस की लिमिट 10,000 रुपए से बढ़ाकर 12,000 रुपए की गई है. एक्सिस बैंक के कस्टमर्स को ध्यान रखना चाहिए कि आवश्यक मंथली बैलेंस में बदलाव केवल उन अकाउंट के लिए किया गया है, जिनमें 10,000 रुपए का एवरेज बैलेंस रखना जरूरी है.

कस्टमर्स को अपने बैंक अकाउंट में मिनिमम रकम रखनी पड़ती है. अधिकतर बैंक इस शेष रकम (बैलेंस) को बनाए नहीं रखने पर फाइन लगाते हैं. ये बैलेंस लिमिट हर बैंक में अलग-अलग होती है. एक्सिस बैंक की वेबसाइट के अनुसार मेट्रो या अर्बन एरिया में ईजी सेविंग्स और उससे मिलती-जुलती स्कीमों के लिए मिनिमम एवरेज बैलेंस की सीमा को 10,000 रुपए से संशोधित कर 12,000 रुपए किया गया है.

एक्सिस बैंक की वेबसाइट के अनुसार इन स्कीमों के लिए हुए एवरेज मंथली बैलेंस की सीमा में बदलाव घरेलू और एनआरआई दोनों तरह के कस्टमर्स के लिए लागू है. ये बदलाव ईजी और इक्विवेलेंट के तहत डिजिटल और सेविंग्स एसबीईजेडवाई इक्विवेलेंट, स्मार्ट प्रिविलेज समेत अन्य स्कीमों पर लागू होंगे.

मंथली सर्विस फीस

मंथली सर्विस फीस (MSF) निर्धारित मिनिमम राशि के प्रत्येक 100 रुपए के अंतर के लिए 5 रुपए के साथ 75 रुपए या 500 रुपए में जो कम हो, कस्टमर्स से वसूले जाएंगे. अर्बन कस्टमर्स के लिए 75 रुपए की मिनिमम फीस है.

थर्ड पार्टी कैश ट्रांजेक्शन लिमिट में बदलाव नहीं

मंथली फ्री कैश ट्रांजेक्शन लिमिट ईजी सेविंग्स और इसी तरह के अकाउंट के लिए 2 लाख रुपए से घटाकर 1.5 लाख रुपए की गई है. पहले मंथली कैश ट्रांजेक्शन की फ्री लिमिट पहली चार लेनदेन या 2 लाख रुपए, जो भी पहले आए, थी. अब, फ्री कैश ट्रांजेक्शन की सीमा पहले चार ट्रांजेक्शन या 1.5 लाख रुपए, जो भी पहले हो, होगी. नॉन-होम और थर्ड पार्टी कैश ट्रांजेक्शन लिमिट में कोई बदलाव नहीं किया गया है.