दिल्ली-एनसीआर में गर्मी ने लोगों को परेशान कर दिया है. मौसम विभाग की मानें तो अभी आने वाले कुछ दिनों में भी चिलचिलाती गर्मी से लोगों को राहत नहीं मिलने वाली है. रिज और पालम सहित कई इलाकों में रविवार को लू दर्ज की गई और अगले कुछ दिनों तक शहर में धूप बहुत तेज रहेगी और कोई राहत नहीं मिलेगी. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने 7 अप्रैल तक हरियाणा, राजस्थान और उत्तर पश्चिम भारत के अन्य कुछ हिस्सों सहित दिल्ली में हीटवेव यानी लू चेतावनी जारी की है.

मौसम विभाग की मानें तो दिल्ली में रविवार को न्यूनतम तापमान सामान्य से अधिक दर्ज किया गया. राष्ट्रीय राजधानी में रविवार को न्यूनतम तापमान सामान्य से एक डिग्री अधिक 19.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. सफदरजंग में रविवार को अधिकतम तापमान सामान्य से छह डिग्री अधिक 39.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो एक दिन पहले था. शनिवार को न्यूनतम तापमान 17.4 डिग्री सेल्सियस के मुकाबले औसत से एक डिग्री अधिक 19.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. नजफगढ़ में सबसे अधिक गर्मी पड़ी.

मौसम कार्यालय ने दिनभर आसमान साफ रहने और अधिकतम तापमान 39 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने का अनुमान व्यक्त किया है. आईएमडी के अधिकारियों ने कहा कि लगातार शुष्क मौसम रहने के कारण उत्तर पश्चिम भारत में भीषण गर्मी पड़ रही है. मौसम विभाग ने दूर दराज के स्थानों पर तीन से छह अप्रैल के बीच भीषण गर्मी की चेतावनी जारी की है.

आईएमडी के अनुसार भीषण गर्मी तब होती है, जब तापमान सामान्य से 6.4 डिग्री ज्यादा हो जाता है. भारत में 122 वर्ष में मार्च सबसे गर्म महीना रहा, जिस दौरान देश में भीषण गर्मी पड़ी. मौसम विभाग ने इस असामान्य गर्मी के लिए उत्तर भारत में सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ और दक्षिण भारत में किसी भी व्यापक मौसमी परिस्थितियां नहीं बनने के कारण वर्षा की कमी को जिम्मेदार ठहराया.

पूरे देश में 8.9 मिलीमीटर (मिमी) वर्षा दर्ज की गई, जो कि इसकी लंबी अवधि की औसत वर्षा 30.4 मिमी से 71 प्रतिशत कम थी. वर्ष 1909 में 7.2 मिमी और 1908 में 8.7 मिमी के बाद 1901 से मार्च में तीसरी बार सबसे कम वर्षा हुई. इधर गर्मी की वजह से वायु गुणवत्ता भी खराब हो रही है.