केंद्र सरकार ने मुफ्त खाद्यान्न वितरण कार्यक्रम प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना यानी पीएमजीकेएवाई को इस साल सितंबर तक बढ़ाने का फैसला किया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में शनिवार को हुई कैबिनेट बैठक में यह फैसला लिया गया.

खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री पीयूष गोयल ने इस फैसले की जानकारी देते हुए कहा कि सरकार ने नि:शुल्क खाद्यान्न वितरण योजना पीएमजीकेएवाई (PMGKAY) की अवधि छह महीने के लिए बढ़ाई है. अब प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना सितंबर 2022 तक जारी रहेगी.

31 मार्च को खत्म हो रही थी योजना

गौरतलब है कि साल 2020 से ही केंद्र सरकार की ओर से इस स्कीम के तहत गरीब परिवारों को मुफ्त राशन मुहैया कराया जा रहा है. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना की घोषणा मार्च 2020 में की गई थी. शुरू में यह योजना अप्रैल-जून 2020 की अवधि के लिए शुरू की गई थी, लेकिन बाद में इसे 30 नवंबर, 2021 और 31 मार्च 2022 तक बढ़ा दिया गया था.

सब्सिडी वाले अनाज के अलावा दिया जाता है मुफ्त राशन

पीएमजीकेएवाई के तहत 80 करोड़ से अधिक लोगों को प्रति माह 5 किलो अनाज उपलब्ध कराया जा रहा है. राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (NFSA) के तहत 80 करोड़ राशन कार्ड धारकों को मुफ्त राशन की पहचान की गई है. राशन की दुकानों के माध्यम से उन्हें वितरित किए जाने वाले सब्सिडी वाले अनाज के अलावा मुफ्त राशन दिया जाता है.

राशनकार्ड धारकों तक ही सीमित है योजना

गौरतलब है कि पीएमजीकेएवाई  के तहत मुफ्त अनाज का फायदा उन लोगों के लिए नहीं है, जिनका राशन कार्ड नहीं है. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना राशनकार्ड धारकों तक ही सीमित है यानी देश के जिस नागरिक के पास भी राशन कार्ड उपलब्ध है, उसे अपने कोटे के राशन के साथ-साथ इस योजना के तहत अतिरिक्त राशन मिल रहा है.