उत्तर प्रदेश में अप्रैल महीने से सभी तरह के कपड़े दस फीसदी महंगे हो जाएंगे. इसमें कॉटन, लीनेन, महंगे लग्जरी कपड़े समेत विभिन्न प्रकार के वस्त्र शामिल हैं. कपड़ों के दाम में इस तेजी के पीछे यार्न और कपड़ों में प्रयोग होने वाले केमिकल की बढ़ी कीमतों को बताया जा रहा है. कपड़ा व्यापारियों के मुताबिक, दूसरे राज्यों से मंगाए जाने वाले कपड़े की नई बुकिंग ही दस फीसदी कीमत बढ़ाकर की जा रही है.

वस्त्र व्यापारी बताते हैं कि यार्न को प्रोसेस कर उससे कपड़े बनाने वाले प्रोसेसिंग हाउस तक महंगे हो गए हैं. कीमत बढ़ने से कपड़ों की फिनिशिंग समेत कई काम महंगे हो जाएंगे. उनका कहना है कि करीब तीन माह पहले यार्न महंगा होने की वजह से कपड़ों के रेट में तेजी आई थी और अब अप्रैल महीने में एक बार फिर से दस फीसदी से ज्यादा दाम चढ़ने वाले हैं. ऐसे में कपड़ा लगातार महंगा होता जा रहा है.

उत्तर प्रदेश में अप्रैल महीने से सभी तरह के कपड़े (Cloth Prices) दस फीसदी महंगे हो जाएंगे. इसमें कॉटन, लीनेन, महंगे लग्जरी कपड़े समेत विभिन्न प्रकार के वस्त्र शामिल हैं. कपड़ों के दाम में इस तेजी के पीछे यार्न और कपड़ों में प्रयोग होने वाले केमिकल की बढ़ी कीमतों को बताया जा रहा है. कपड़ा व्यापारियों के मुताबिक, दूसरे राज्यों से मंगाए जाने वाले कपड़े की नई बुकिंग ही दस फीसदी कीमत बढ़ाकर की जा रही है.

वस्त्र व्यापारी बताते हैं कि यार्न को प्रोसेस कर उससे कपड़े बनाने वाले प्रोसेसिंग हाउस तक महंगे हो गए हैं. कीमत बढ़ने से कपड़ों की फिनिशिंग समेत कई काम महंगे हो जाएंगे. उनका कहना है कि करीब तीन माह पहले यार्न महंगा होने की वजह से कपड़ों के रेट में तेजी आई थी और अब अप्रैल महीने में एक बार फिर से दस फीसदी से ज्यादा दाम चढ़ने वाले हैं. ऐसे में कपड़ा लगातार महंगा होता जा रहा है.