यूक्रेन में जारी जंग के बीच रूस पर प्रतिबंधों का बोझ बढ़ता जा रहा है. ब्रिटेन ने गुरुवार को 7 और रूसी धनकुबेरों की संपत्ति पर रोक लगा दी गई है. इन सभी की संपत्ति लगभग 1.12 लाख करोड़ रुपये है. जिन रूसी कुबेरों की संपत्ति फ्रीज की गई, उनमें चेल्सिया फुटबॉल क्लब के मालिक रोमन अब्रामोविच, रूसी तेल कंपनी रोजनिफ्त के मालिक इगोर सेनचिन, रूसिया बैंक के चेयरमैन दिमित्री लेबेदेव, पाइप लाइन कंपनी के मालिक निकोलाई तोकारेव और ऊर्जा कंपनी गाजप्रोम के एलेक्सी मिलर शामिल हैं. ब्रिटेन में अब तक 48 रूसी कुबेरों की संपत्ति फ्रीज हो चुकी है.

बोरिस जॉनसन ने गुरुवार को रूसी बैंकों, कंपनियों और एलिट क्लास पर और ज्यादा प्रतिबंध लगाने, ब्रिटिश टेक्नोलॉजी के रूस में इंपोर्ट के नियमों को और सख्त करने और रूसी एयरलाइन ‘एयरोफ्लॉट’ पर प्रतिबंध लगाने का वादा किया. ब्रिटिश सरकार सभी प्रमुख रूसी बैंकों की संपत्ति को फ्रीज करने और उन्हें लंदन के फाइनेंशियल मार्केट से बाहर करने के लिए नियम लाएगी. इसके साथ ही रूसी बैंक VTB के खिलाफ तत्काल एक्शन लिया जाएगा.

बाइडन ने किया था प्रतिबंधों का ऐलान

यूक्रेन पर रूसी हमले के बाद दुनिया भर के देशों ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन और ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन ने रूस पर और ज्यादा प्रतिबंध लगाने का ऐलान किया है. जो बाइडन ने रूस को धमकी देते हुए कहा है कि उसे यूक्रेन पर हमले की गंभीर कीमत चुकानी होगी. वहीं, ब्रिटिश PM ने संसद को संबोधित करते हुए कहा, पुतिन ने अपने हाथ यूक्रेन के मासूम लोगों के खून से रंग लिए हैं, यह दाग कभी साफ नहीं किए जा सकेंगे.

रूस कमजोर होगा और बाकी दुनिया मजबूत

बकौल बाइडन- ‘अब रूस कमजोर और बाकी दुनिया मजबूत होगी. रूस का फाइनेंशियल सिस्टम अब डॉलर, यूरो, पाउंड या येन में पहले की तरह कारोबार नहीं कर सकेगा. उसके मिलिट्री सिस्टम को भी नुकसान होगा. रूसी बैंकों के करीब एक लाख करोड़ डॉलर के एसेट्स अब होल्ड किए जा रहे हैं. बाइडन ने यह भी कहा कि हम यूक्रेन संकट पर भारत के साथ विचार-विमर्श करेंगे.