इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने चालू वित्त वर्ष (2021-22) में 21 फरवरी, 2022 तक 2.07 करोड़ से ज्यादा टैक्सपेयर्स को 1.82 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा राशि रिफंड की है. यह आंकड़ा 1 अप्रैल 2021 से 21 फरवरी, 2022 के बीच हुए रिफंड का है. इसमें से पर्सनल इनकम टैक्स रिफंड 65,498 करोड़ रुपये था, जबकि कॉरपोरेट्स टैक्स रिफंड 1,17,498  करोड़ रुपये था.

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने ट्वीट कर कहा, ”सीबीडीटी ने एक अप्रैल, 2021 से 21 फरवरी, 2022 के बीच 2.07 करोड़ से ज्यादा टैक्सपेयर्स को 1,82,995 करोड़ रुपये से अधिक की वापसी की है. 2,04,44,820 मामलों में 65,498 करोड़ रुपये का इनकम टैक्स रिफंड जारी किया गया है और 2,30,112 मामलों में 1,17,498 करोड़ रुपये का कॉर्पोरेट टैक्स रिफंड जारी किया गया है.”

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की नई वेबसाइट से चेक करें रिफंड स्टेटस-

अगर आपका भी इनकम टैक्स रिफंड आना था तो आप ऑनलाइन इसका स्टेटस चेक कर सकते हैं. इनकम टैक्स ई फाइलिंग पोर्टल के जरिए या फिर एनएसडीएल की वेबसाइट के जरिए स्टेटस चेक किया जा सकता है.

> सबसे पहले वेबसाइट http://www.incometax.gov.in पर जाना होगा.

>> यूजर आईडी और पासवर्ड डालें.

>> लॉग इन के बाद आपको ई-फाइलिंग का ऑप्शन दिखाई देगा.

>> अब आप इनकम टैक्स रिटर्न्स को सलेक्ट करें

>> इसके बाद में व्यू फाइल रिटर्न पर क्लिक करें.

>> अब आपके आईटीआर की डिटेल्स दिख जाएगी.

रिफंड अटकने के ये हो सकते हैं कारण

इनकम टैक्स रिफंड अटकने के मामलों में एक बड़ा कारण बैंक अकाउंट के विवरण में गलती हो सकती है. अगर आपने फॉर्म भरते हुए अपने अकाउंट का विवरण गलत भरा है तो इस वजह से आपका इनकम टैक्स रिफंड अटक सकता है. ऐसी स्थिति में आपको इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की वेबसाइट पर अकाउंट का विवरण सही करना पडे़गा.