देश में जल्‍द 5जी सेवाएं शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री कार्यालय ने दूरसंचार विभाग को आदेश दिए हैं. प्रधानमंत्री कार्यालय के आदेश के बाद अब दूरसंचार विभाग  ने टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया को 5जी के संबंध में अपनी सिफारिशें 2 मार्च तक देने का आग्रह किया है. भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण को 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी प्रक्रिया के संबंध में नियमों पर अपनी सिफारिश देनी है.

ट्राई सेक्रेटरी को लिखे पत्र में दूरसंचार विभाग ने कहा है कि प्रधानमंत्री कार्यालय देश में 15 अगस्‍त 2022 तक 5जी सेवाएं शुरू करना चाहता है.  22 फरवरी को ट्राई सेक्रेटरी को लिखे एक पत्र में दूरसंचार विभाग ने कहा है कि, ‘एक निगरानी समूह के विचार-विमर्श से निकले निर्णय/कार्रवाई बिंदुओं के संदर्भ में, प्रधानमंत्री कार्यालय ने दूरसंचार विभाग से 5 जी सेवाओं को 15 अगस्‍त 2022 तक शुरू करने और इस संबंध में ट्राई से मार्च 2022 तक सिफारिशें प्राप्‍त करने का आग्रह किया है.’

TRAI से मांगी हैं सिफारिशें

प्रक्रिया के अनुसार, विभाग स्पेक्ट्रम के मूल्य, इसे आवंटित करने की पद्धति, इसके ब्लॉक के आकार, भुगतान के तौर-तरीकों पर ट्राई से सिफारिशें मांगता है. ट्राई उद्योग जगत और अन्य हितधारकों से परामर्श करता है और दूरसंचार विभाग को सिफारिशें भेजता है.

टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) 5 जी स्‍पेक्‍ट्रम की नीलामी के लिए मल्‍टीपल बैंड्स, कीमत, क्‍वांटम और अन्‍य शर्तों के बारे में अपनी सिफारिशों को अंतिम रूप देने में लगा है. इसके अलावा नई फ्रीक्‍वेंसिज जैसे 526-698 MHz, मिलिट्री बैंड तथा 700 MHz, 800 MHz, 900 MHz, 1800 MHz, 2100 MHz, 2300 MHz, 2500 MHz, 3300-3670 MHz. के संबंध में भी नियम बनाए जा रहे हैं.

नीलामी शुरू करने में लगेंगे दो महीने

कुछ समय पहले ही दूरसंचार सचिव के राजारमन राजारमन ने कहा था कि दूरसंचार विभाग को ट्राई की सिफारिशें प्राप्त होने के दिन से नीलामी शुरू करने में दो महीने लगेंगे. विभाग के अनुसार, 5जी से डेटा 4जी सेवा की तुलना में 10 गुना तेज रफ्तार से डाउनलोड हो सकेगा.