धर्म नगरी हरिद्वार में 2 सालों से कोरोना के चलते सन्नाटा ही सन्नाटा छा गया था, लेकिन अब कावड़ मेला शुरू होने से हरिद्वार के व्याापारियों के चेहरे पर फिर से रौनक आ गई है. हरिद्वार नगरी में हर तरफ कावड़ ही कावड़ नजर आ रहा है. इससे हरिद्वार के व्यापारियों का व्यापार फिर एक बार से शुरु हो गया है. आगामी 1 मार्च को महाशिवरात्रि का पर्व है जिसको लेकर फागुनी कांवड़ की शुरुआत हो चली है. फागुनी कांवड़ में भगवान शिव के भक्त धर्मनगरी हरिद्वार की हर की पैड़ी पहुंच कर अपनी मनोकामनाओं की सिद्धि के लिए कांवड़ उठा कर अपने अपने शहर की ओर प्रस्थान कर रहे हैं.

बड़ी संख्या में हरिद्वार पहुंच रहे हैं कांवड़िये

फागुन मास की कावड़ शुरू हो चुकी है और कांवड़िए हरिद्वार पहुंचकर अपनी अपनी कावड़ लेकर अपने शिवालयों की ओर प्रस्थान कर रहे हैं. सभी लोग अपनी मनोकामनाएं सिद्धि और भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए धर्मनगरी हरिद्वार पहुंचकर हर की पैड़ी से जल भर रहे हैं. फागुन मास की कावड़ में भगवान शिव का जलाभिषेक करने से विशेष कृपा बनती है. महाशिवरात्रि के पर्व पर भगवान शिव का जलाभिषेक करने से ग्रहस्थ लोगों को दांपत्य जीवन के लाभ के साथ-साथ ग्रह दोष भी शांत हो जाते हैं. ग्रीष्म ऋतु की शुरुआत होने के कारण भगवान शिव का जलाभिषेक करने से भगवान शिव की अति कृपा प्राप्त होती है.

कावंड़ के आने से धर्म नगरी में रौनक

हर की पैड़ी पर पहुंच रहे कावड़ियों का मानना है कि भगवान शिव की कृपा उन पर बनी रहे इसलिए वह हरिद्वार से जल भर कर अपने गांव शहर के शिवालयों की ओर प्रस्थान कर रहे हैं और महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव का जलाभिषेक करेंगे. कावड़ियों का कहना है कि उनकी भगवान में बहुत श्रद्धा है और उन्हीं की श्रद्धा और कृपा के कारण ही वे कावड़ लेने हरिद्वार आए हैं. उन्होंने बताया कि वो हरिद्वार से लगभग 250 किलोमीटर पैदल ही सफर करेंगे. दूसरी तरफ  हरिद्वार के व्यापारियों का कहना है कि पिछले 2 सालों से कोरोना की वजह से व्यापार मंदा हो गया था लेकिन अब शिवरात्रि के अवसर पर कावड़ मेला शुरू होने से हरिद्वार के बाजार में बड़ी संख्या में कावड़िये पहुंच रहे हैं.

प्रशासन ने की खास तैयारी

कावड़ियों को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने भी कमर कस ली है. कावड़ यात्रा मार्ग पर पुलिस प्रशासन की ओर विशेष तैयारियां की गई हैं. एसपी सिटी स्वतंत्र कुमार का कहना है कि हरिद्वार जनपद में जिस मार्ग से कावड़िए जा रहे हैं उस मार्ग पर हमने पुलिस प्रशासन की पूरी व्यवस्था की है.