देश के साथ राजधानी दिल्‍ली में भी कोरोना के मामले तेजी से कम हो रहे हैं. इसी को ध्‍यान में रखते हुए दिल्‍ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) की शुक्रवार को बैठक बुलाई है. कोरोना के कम होते मामलों को देखते हुए संभावना जताई जा रही है कि बैठक में नाइट कर्फ्यू को हटाने का फैसला लिया जा सकता है. इसके साथ ही, डीडीएमए की बैठक में साप्‍ताहिक बाजार खोलने पर चर्चा की जा सकती है.

दिल्ली में कम हो रहे कोरोना संक्रमण दर के बावजूद नाइट कर्फ्यू सहित सभी प्रतिबंध जारी हैं. इन प्रतिबंधों के कारण व्यापार प्रभावित हो रहा है. अपनी परेशानियों को लेकर दिल्ली के व्यापारियों ने उपराज्यपाल को पत्र भी लिखा है. चैंबर ऑफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री (सीटीआई) ने डीडीएमए अध्यक्ष व एलजी अनिल बैजल को पत्र लिखकर मांग की है. दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) की आखिरी मीटिंग 4 फरवरी को हुई थी, पिछली मीटिंग को 18 दिन हो गए हैं. दिल्ली में कोरोना केस और संक्रमण दर घट रही है, ऐसे में अन्य प्रतिबंधों को पूरी तरह हटाया जाना चाहिए.

सीटीआई चेयरमैन बृजेश गोयल ने कहा कि दिल्ली में 1 फीसदी से भी कम पॉजिटिविटी रेट हो गयी है. सोमवार को कोरोना के सिर्फ 360 नए केस आए. अस्पतालों में बेड खाली पड़े हैं. दिल्ली में कोरोना की पांचर समाप्ति की ओर है. अब उपराज्यपाल अनिल बैजल से गुहार है कि वे डीडीएमए की बैठक बुलाएं. दिल्ली के ताजा हालात पर समीक्षा हो. साथ ही अन्य सभी पाबंदियों को हटा दिया जाए.

दिल्‍ली में अभी रात 11 बजे से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू है. इससे काफी दिक्कतें होती हैं. बहुत सारे बाजारों में रात के वक्त ही लोडिंग-अनलोडिंग होती है. ऐसे में कर्मचारियों को मार्केट पहुंचने और वहां से लौटने में परेशानी होती है. इसी तरह रेस्तरां रात 11 बजे तक ओपन हैं, यहां से भी गेस्ट और वर्कर को निकलने में देरी हो जाती है. शादी-विवाह रात में होती है. मेहमानों को घर लौटने में पुलिस पूछताछ करती है. अभी दिल्ली के बाजारों में दुकानों को रात 8 बजे तक खोलने की अनुमति है. इसका टाइम भी बढ़ना चाहिए. बृजेश गोयल ने कहा कि इवेंट और एग्जीबिशन इंडस्ट्री से जुड़े लोग भी परेशान हैं. वे काम नहीं कर पा रहे.

गौरतलब है कि 4 फरवरी की डीडीएमए की बैठक में स्कूल, कॉलेज, कोचिंग इस्टीट्यूट और जिम खोलने का फैसला लिया गया था. अब संभावना यह जताई जा रही है कि शुक्रवार को होने वाली डीडीएमए की बैठक में नाइट कर्फ्यू को हटाने के साथ-साथ साप्ताहिक बाजार खोलने पर फैसला हेा सकता है.