राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की सुरक्षा में सेंध का बड़ा मामला सामने आया है. दिल्ली पुलिस के मुताबिक बुधवार सुबह 7:45 बजे एक कार सवार शख्स ने अजीत डोभाल के सरकारी आवास में घुसने की कोशिश की, जिसे सुरक्षा कर्मियों ने रोका और गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तार व्यक्ति से पूछताछ जारी है.

दिल्ली पुलिस ने जानकारी दी है कि शुरुआती जांच में वह व्यक्ति दिमागी तौर पर अस्थिर है और किराए की गाड़ी चला रहा था. दिल्ली पुलिस के मुताबिक पकड़े जाने के बाद शख्स कुछ बड़बड़ा भी रहा था. कह रहा था कि उसकी बॉडी में किसी ने चिप लगा दिया है और उसे रिमोट से कंट्रोल किया जा रहा है.

दिल्ली पुलिस ने शख्स का फुल बॉडी चेकअप किया, लेकिन उसकी बॉडी से कोई चिप नहीं मिला है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि NSA अजीत डोभाल की सुरक्षा CISF के जिम्मे है. उन्हें गृह मंत्रालय की ओर से Z+ कैटेगिरी की सुरक्षा मिली हुई है. हिरासत में लिया गया शख्स कर्नाटक के बेंगलुरु का रहने वाला है. उसका नाम शांतनु रेड्डी बताया गया है.

दिल्ली पुलिस के मुताबिक वह नोएडा से रेड कलर की एक SUV कार किराए पर लेकर डोभाल के घर पहुंचा था. वह कार राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के आवास के अंदर घुसाने की कोशिश कर रहा था, इसी दौरान सुरक्षाकर्मियों ने उसे पकड़ लिया गया.

उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले के घिरी बानेल्स्युन गांव में जन्मे अजीत डोभाल केरल कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं. साल 1972 में वह भारत की खुफिया एजेंसी आईबी से जुड़े थे. वह आईबी के डायरेक्टर भी रह चुके हैं. डोभाल के बारे में यह भी कहा जाता है कि वह सात साल तक पाकिस्तान में जासूस बनकर रह चुके हैं. ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’ और ‘ऑपरेशन ब्लू थंडर’ में भी उनकी अहम भूमिका रही है.

साल 1999 में अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के दौरान IC-814 विमान को हाइजैक कर कंधार ले जाया गया था, तब अजीत डोभाल को आतंकवादियों से बातचीत करने के लिए काम पर लगाया गया था. अजीत डोभाल को रियल लाइफ का जेम्स बॉन्ड कहा जाता है. वह कई आतंकी संगठनों के निशाने पर रहते हैं. बीते साल फरवरी में गिरफ्तार जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकी के पास से डोभाल के दफ्तर की रेकी का वीडियो मिल चुका है.