देश के विदेशी मुद्रा भंडार में फिर कमी आई है. 21 जनवरी, 2022 को खत्म हुए सप्ताह में यह 67.8 करोड़ डॉलर घटकर 634.287 अरब डॉलर रह गया. भारतीय रिजर्व बैंक यानी आरबीआई की ओर से शुक्रवार को जारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है.

इससे पहले 14 जनवरी 2022 को खत्म हुए सप्ताह में यह 2.229 अरब डॉलर बढ़कर 634.965 अरब डॉलर पर पहुंच गया. वहीं, 7 जनवरी को खत्म हुए सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 87.8 करोड़ डॉलर घटकर 632.736 अरब डॉलर हो गया था जबकि 31 दिसंबर, 2021 को खत्म हुए सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 1.466 अरब डॉलर घटकर 633.614 अरब डॉलर रह गया था.

1.155 अरब डॉलर घटी एफसीए

आरबीआई के शुक्रवार को जारी साप्ताहिक आंकड़ों के अनुसार 21 जनवरी को खत्म हुए सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार में उछाल आने की वजह कुल मुद्रा भंडार का अहम हिस्सा माने जाने वाले फॉरेन करेंसी एसेट यानी एफसीए (Foreign Currency Assets) और स्वर्ण आरक्षित भंडार में वृद्धि है. रिजर्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार, सप्ताह के दौरान एफसीए 1.155 अरब डॉलर घटकर 569.582 अरब डॉलर हो गया. डॉलर में बताई जाने वाली एफसीए में विदेशी मुद्रा भंडार में रखी यूरो, पाउंड और येन जैसी दूसरी विदेशी मुद्राओं के मूल्य में वृद्धि या कमी का प्रभाव भी शामिल होता है.

गोल्ड रिजर्व में इजाफा

इसके अलावा रिपोर्टिंग वीक में गोल्ड रिजर्व का मूल्य 56.7 करोड़ डॉलर बढ़कर 40.337 अरब डॉलर गया. रिपोर्टिंग वीक में इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड यानी एमआईएफ (IMF) में देश का एसडीआर यानी स्पेशल ड्राइंग राइट (Special Drawing Rights) 6.8 करोड़ डॉलर घटकर 19.152 अरब डॉलर हो गया. आईएमएफ में देश का मुद्रा भंडार भी 2.2 करोड़ डॉलर घटकर 5.216 अरब डॉलर हो गया.