भारत समेत दुनियाभर में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. इस बीच भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था पर विदेशी निवेशकों का भरोसा कायम है. लगातार तीन महीने की बिकवाली के बाद विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों यानी एफपीआई ने जनवरी 2022 में अब तक भारतीय शेयर बाजारों  में 3,117 करोड़ रुपये का निवेश किया है. इससे पहले एफपीआई ने जनवरी 2022 के पहले सप्ताह में भारतीय शेयर बाजारों में 3,202 करोड़ रुपये का निवेश किया था.

डिपॉजिटरी के आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने 1 से 14 जनवरी के बीच शेयरों में 1,857 करोड़ रुपये और हाइब्रिड इंस्ट्रूमेंट में 1,743 करोड़ रुपये डाले. इसके साथ ही उन्होंने डेट सेगमेंट से 482 करोड़ रुपये निकाले, जिससे शुद्ध निवेश 3,117 करोड़ रुपये रहा. इससे पहले अक्टूबर 2021 से लगातार तीन महीने तक उन्होंने भारतीय बाजारों में शुद्ध बिकवाली की थी.

आईटी सेक्टर की बड़ी कंपनियों के आए हैं अच्छे रिज्ल्ट

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी के विजय कुमार ने कहा कि आईटी सेक्टर की बड़ी कंपनियों के अच्छे रिज्ल्ट आने से जनवरी में उनके शेयर बढ़े हैं. फाइनेंस सेक्टर में भी यही होने की उम्मीद है.

भारतीय शेयर बाजार को लेकर सतर्क हैं FPIs

मार्निंगस्‍टार इंडिया के एसोसिएट डायरेक्‍टर (मैनेजर रिसर्च) हिमांशु श्रीवास्‍तव ने कहा कि भारतीय शेयर बाजार को लेकर एफपीआई ने फिलहाल सतर्क रूख अपना रखा है. उन्होंने कहा कि डेट सेगमेंट की बात करें तो एफपीआई भारतीय डेट मार्केट में काफी समय से उल्लेखनीय निवेश नहीं कर रहे हैं और यही चलन अभी भी जारी है.