दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने वीकेंड कर्फ्यू लगाने का निर्णय लिया है. दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने डीडीएमए के साथ बैठक की और इस संबंध में जानकारी दी. उन्होंने बताया है कि ओमिक्रॉन वैरिएंट का अब तक का व्यवहार देखकर यह ज्यादा खतरनाक नहीं लग रहा है. लेकिन फिर भी परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए किसी तरह की लापरवाही नहीं की जा सकती है.

सिसोदिया ने बताया कि इसके बढ़ने की गति को हम जितना नियंत्रित कर सकेंगे उतना ही अच्छा होगा. इसके लिए हमने डीडीएम की बैठक में फैसला किया है कि दिल्ली में शनिवार और रविवार को वीकेंड कर्फ्यू रहेगा.  दूसरा ये कि दिल्ली में जो भी सरकारी दफ्तर हैं, वहां जरूरी काम को छोड़कर सभी कर्मचारी वर्क फ्रॉम होम करेंगे. निजी कंपनियों में 50 प्रतिशत स्टाफ ही काम करेंगे.

मनीष सिसोदिया ने बताया कि बसों और मेट्रो में 50 प्रतिशत सीट क्षमता होने के चलते लंबी लाइनें लग रही थीं जिससे ओमिक्रॉन के सुपर स्प्रेड होने का खतरा वहां से बढ़ गया था. इसी के चलते फैसला लिया गया है कि बसें और मेट्रो अब पूरी क्षमता के साथ चलेंगी लेकिन बिना मास्क के किसी को एंट्री नहीं मिलेगी. मास्क को हर हाल में अनिवार्य बनाया जाएगा. एक सवाल के जवाब में सिसौदिया ने कहा कि शनिवार और रविवार को पूरी तरह से कर्फ्यू लागू होगा.