बैंकों तथा अन्य वित्तीय संस्थानों के लिए ‘अपने ग्राहक को जानें’ यानी केवाईसी  जरूरी है. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा KYC जरूरी किए जाने के बाद वित्तीय संस्थान और अन्य संगठन को किसी भी प्रकार के वित्तीय लेनदेन करने वाले अपने ग्राहकों के पते और पहचान का वेरिफिकेशन करना होता है.

बैंकों के अलावा तमाम निवेश या बचत योजनाओं के लिए भी केवाईसी जरूरी होता है. आप म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहते हैं या फिर फिक्स्ड डिपॉजिट या फिर बैंक अकाउंट खोलना चाहते हैं, सभी में निवेश करने से पहले KYC करना होता है. अगर आप Paytm का इस्तेमाल करते हैं, तब ही आपको KYC की प्रोसेस से होकर गुजरना होता है. पेटीएम के अलावा अन्य तमाम मोबाइल बॉलेट के लिए भी केवाईसी करना होता है. हालांकि, इनके लिए केवाईसी मोबाइल के माध्यम से ही किया जा सकता है.

शुरूआत में सभी बैंकों के लिए दिसंबर, 2005 तक ग्राहकों का KYC करना अनिवार्य कर दिया गया था. इसके बाद हर दो साल में केवाईसी करना होता है. केवाईसी के लिए बैंक में जाकर अपनी पहचान पत्र और पते का प्रमाण पत्र जमा कराना होता है. लेकिन अब इसे घर बैठे ऑनलाइन तरीके भी किया जा सकता है.

ऑनलाइन केवाईसी कैसे करें

अब केवाईसी करने के लिए आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं है. घर बैठे से भी ऑनलाइन KYC किया जा सकता है. आप अपने घर से ही बैंक अकाउंट का केवाईसी कराना चाहते हैं तो इसके लिए आपके आधार कार्ड की जरूरत होगी. ध्यान रहे कि आपका आधार नंबर आपके मोबाइल नंबर से लिंक होना चाहिए, तभी ऑनलाइन केवाईसी किया जा सकता है. क्योंकि केवाईसी करते समय आपके मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आएगा.

अगर आप पीएम किसान सम्मान निधि योजना के लिए KYC करना चाहते हैं तो आपको pmkisan.gov.in पर जाना होगा. इसके बाद राइट साइड में दिए गए e-KYC के ऑप्शन पर क्लिक कर दें. यहां आपको अपना Aadhaar Card नंबर दर्ज कराना होगा. आधार नंबर दर्ज करने के बाद आपके मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आएगा. OTP दर्ज करके आप KYC के लिए आवेदन कर सकते हैं.