भारतीय रेलवे ने श्री रामायण यात्रा ट्रेन  के रूट पर दो और धार्मिक स्‍थल जोड़ने का फैसला लिया है. इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्‍म कॉरपोरेशन द्वारा चलाई जा रही श्री रामायण यात्रा ट्रेन अब बक्‍सर, बिहार और कांचीपुरम, तमिलनाडु में भगवान राम से जुड़े स्‍थलों के दर्शन कराएगी.

रेलवे बोर्ड ने रूट में इन धार्मिक स्‍थलों को जोड़ने की स्‍वीकृति दे दी है. यह ट्रेन 9 फरवरी 2021 को चलेगी. दो स्‍थान बढ़ने की वजह से यात्रा के दिनों में भी बढ़ोतरी हो गई है. आईआरसीटीसी (IRCTC) ने लोगों को भगवान श्रीराम से जुड़े स्‍थलों के दर्शन कराने के लिए श्री रामायण यात्रा की शुरुआत की है.

किस श्रेणी की होंगी ट्रेनें

श्री रामायण यात्रा में दो श्रेणी की ट्रेन संचालित की जा रही हैं. एक ट्रेन डीलक्‍स, जिसमें एसी सेकेंड और एसी फर्स्‍ट क्‍लास हैं. वहीं दूसरी ट्रेन स्‍लीपर और एसी थर्ड क्‍लास है. एक ट्रेन नवंबर 2021 के आखिर और दूसरी ट्रेन दिसंबर 2021 के शुरू में चल चुकी है. दोनों ट्रेनों में बुकिंग फुल रही है. बेहतर रिस्‍पांस देखकर भारतीय रेलवे ने एक और ट्रेन चलाने का निर्णय लिया है. यह ट्रेन डीलक्‍स होगी, इसमें इसमें एसी सेकेंड और एसी फर्स्‍ट क्‍लास होंगे. यह ट्रेन 9 फरवरी को रवाना होगी.

अब कितने दिन की होगी यात्रा

आईआरसीटीसी के अनुसार अभी तक यह यात्रा 17 दिनों की होती थी, लेकिन दो नए धार्मिक स्‍थल  जुड़ने के बाद यात्रा 20 दिन की होगी. ट्रेन 5वें दिन बक्‍सर और 17वें दिन कांचीपुरम पहुंचेगी. इसी तरह इसके किराये में भी बढ़ोतरी की जा रही है. अब एसी सेकेंड का किराया 14,000 से 15,000 के करीब और एसी फर्स्‍ट का किराया 20,000 से 22,000 रुपये होने की संभावना है.

क्‍यों जोड़े बक्‍सर और कांचीपुरम

आईआरसीटीसी के अनुसार बक्‍सर में भगवान श्रीराम का विवाह हुआ था और कांचीपुरम में दशरथ जी तब गए थे, जब उनके पुत्र नहीं थे. लौटने के बाद उनके चार पुत्र हुए थे. इस वजह से दोनों स्‍थान महत्‍वपूर्ण हैं. आम लोग इन स्‍थानों के बारे नहीं जानते हैं, इसलिए जोड़ने का फैसला लिया है.