दिल्‍ली-एनसीआर में मौसम का मिजाज बदलने से ठंड बढ़ गयी है. दरअसल दिल्‍ली और आसपास के कई इलाकों में रविवार को हल्‍की बारिश हुई थी. आईएमड के मुताबिक, रविवार को दिल्ली का न्यूनतम पारा 9.8 डिग्री सेल्सियस रहा जो सामान्य से दो डिग्री ज्यादा है. वहीं, अधिकतम तापमान 21.4 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया. वहीं, मौसम विभाग ने पूर्वानुमान व्यक्त किया है कि 27 से 29 दिसंबर तक दिल्ली-एनसीआर में कहीं हल्की बारिश तो कहीं गरज के साथ में बारिश होगी. इसके बाद मौसम साफ होगा, लेकिन लोगों को कोहरे का सामना करना पड़ेगा.

मौमस विभाग के मुताबिक, दिल्‍ली-एनसीआर को अगले कुछ दिन हल्‍की बारिश का सामना करना पड़ेगा. वहीं, इस दौरान न्यूनतम तापमान 5 डिग्री तक जा सकता है. इससे कड़ाके की ठंड पड़ने के साथ शीत लहर चलने के आसार हैं. इसके अलावा कोहरा भी अपना रंग दिखाएगा.

पहाड़ों पर बर्फबारी का मैदानी इलाकों में दिख रहा असर

वैसे तो दिल्‍ली और आसपास के इलााकों में पिछले तीन दिन से आसमान में काले बादल छाए हुए थे. वहीं, इस समय पहाड़ों पर जबरदस्त बर्फबारी का सीधा असर मैदानी इलाकों और खासकर उत्तर भारत में दिख रहा है. इस बीच पश्चिमी विक्षोभ की वजह से रविवार को दिल्ली-एनसीआर के साथ हरियाणा और यूपी समेत कई राज्‍यों में बारिश हुई.

दिल्‍ली-एनसीआर में कहर ढहा रहा प्रदूषण

दिल्ली में रविवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) गंभीर श्रेणी में दर्ज किया गया. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के मुताबिक, शाम सात बजे राष्ट्रीय राजधानी का एक्यूआई 460 था. जबकि हरियाणा के फरीदाबाद का एक्यूआई 455 और गुरुग्राम में 378 रहा. जबकि उत्तर प्रदेश के नोएडा में एक्यूआई 438, गाजियाबाद में 430 और ग्रेटर नोएडा में 428 दर्ज किया गया. शून्य से 50 के बीच एक्यूआई को ‘अच्छा’, 51 और 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 और 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 और 300 के बीच ‘खराब’, 301 और 400 के बीच ‘बहुत खराब’ तथा 401 और 500 ‘गंभीर’ माना जाता है.

मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक, उत्तर पश्चिम भारत को प्रभावित करने वाले पश्चिमी विक्षोभ के कारण प्रदूषक तत्व जमा हो गए हैं और हवा में अधिक नमी की वजह से प्रदूषक भारी हो गए हैं, इसलिए इनका छितरना मुश्किल हो गया है.