दिल्‍ली समेत उत्तर भारत में इस समय कड़ाके की सर्दी पड़ रही है. इस दौरान कहीं शीतलहर से लोग ठिठुर रहे हैं, तो कहीं बर्फबारी ने जीवन अस्‍त व्‍यस्‍त कर दिया है. इस बीच भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने दिल्ली में 27 और 28 दिसंबर को बारिश की संभावना जताई है. यही नहीं, इस दौरान दिल्‍ली के अलावा पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, उत्तर प्रदेश और राजस्थान में भी बारिश की संभावना है.

राजधानी दिल्‍ली समेत पूरे उत्तर भारत में बीते कई दिनों से न्यूनतम तापमान 9 डिग्री से नीचे बना हुआ है. अगर अधिकतम तापमान की बात करें तो यह 21-22 डिग्री के बीच बना हुआ है. वहीं, सुबह के समय अधिकांश इलाकों में कोहरे और धुंध से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

इसके अलावा दिल्‍ली के साथ नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियबाद और फरीदाबा में वायु प्रदूषण की मार भी पड़ रही है. मौसम विभाग के मुताबिक, 25 दिसंबर तक हवा की गुणवत्ता बहुत खराब श्रेणी में रहने की संभावना है और उसके बाद 27 दिसंबर से सुधार देखा जा सकता है.

मौसम विभाग ने कहा कि दिल्ली में शनिवार को मौसम का पहला ‘सर्द दिन’ रहा और पश्चिमोत्तर हवाओं के कारण शहर में न्यूनतम तापमान छह डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. अधिकतम तापमान 17.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से पांच डिग्री कम और इस मौसम का सबसे कम तापमान है. विभाग ने बताया कि जब न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस से कम या इसके बराबर और अधिकतम तापमान सामान्य से कम से कम 4.5 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया जाता है, तो उसे ‘सर्द दिन’ कहा जाता है.

दिल्‍ली में बुधवार को रहा था ऐसा हाल

दिल्ली की बुधवार को हवा की गुणवत्ता यानी एयर क्लालिटी इंडेक्स बहुत खराब श्रेणी रही. बुधवार यानी 22 दिसंबर की सुबह औसतन AQI 385 दर्ज किया गया है. वहीं, अगले कुछ दिन तक दिल्‍ली की जहरीली हवा में सुधार के आसार कम दिख रहे हैं. दिल्ली में मंगलवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक 400 से ऊपर दर्ज किया गया. इस स्तर पर हवा को गंभीर श्रेणी में रखा जाता है.

बता दें कि एक्यूआई को शून्य और 50 के बीच ‘अच्छा’, 51 और 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 और 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 और 300 के बीच ‘खराब’, 301 और 400 के बीच ‘बहुत खराब’ और 401 और 500 के बीच ‘गंभीर’ श्रेणी में माना जाता है.