भारत ने गुरुवार को भी ओडिशा तट के पास सतह से सतह पर मार करने में सक्षम कम दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल ‘प्रलय’ का सफल परीक्षण किया. रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने यह जानकारी दी. 24 घंटे के भीतर यह मिसाइल का दूसरा सफल परीक्षण है. बुधवार को भी इसका सफल परीक्षण किया गया था. एक अधिकारी ने कहा कि देश में यह पहली बार है कि किसी डेवलपमेंटल मिसाइल का लगातार दो दिनों में सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है.

DRDO द्वारा विकसित ठोस-ईंधन, युद्धक मिसाइल भारतीय बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम के ‘पृथ्वी रक्षा वाहन’ पर आधारित है. DRDO ने बयान जारी कर बताया कि एपीजे अब्दुल कलाम द्वीप से सुबह करीब साढ़े दस बजे प्रक्षेपित की गई मिसाइल ने मिशन के सभी उद्देश्यों को पूरा किया. बयान के अनुसार निगरानी उपकरणों के जरिए तट रेखा से इसके प्रक्षेपण की निगरानी की गई.

प्रलय’ 150-500 किलोमीटर से कम दूरी की सतह से सतह पर मार करने वाली मिसाइल है और यह 500-1000 किलोग्राम का भार वहन करने में सक्षम है. इसमें बताया गया कि ‘प्रलय’ सॉलिड प्रोपलेंट रॉकेट मोटर और अन्य नई तकनीक से लैस है. मिसाइल निर्देशक प्रणााली में अत्याधुनिक नौवहन एवं इलेक्ट्रॉनिक उपकरण लगे हुए हैं.