पांच राज्यों में चुनाव के बीच कोरोना के नए ओमिक्रोन वेरिएंट के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. देश की राजधानी दिल्ली में ओमिक्रोन के दो नए मामले आए हैं. दिल्ली में अब ओमाइक्रोन वेरिएंट बढ़कर 10 पहुंच गए. इन 10 में से एक को छुट्टी दे दी गई है और 9 अभी भी LNJP अस्पताल में भर्ती हैं. दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा है कि इनमें से कोई भी गंभीर मामला नहीं है.

सत्येंद्र जैन ने कहा, LNJP में ओमिक्रोन से जुड़े कुल 40 मरीज अभी भर्ती हैं, जिनमें से 38 पॉजिटिव हैं और 2 सस्पेक्ट. आज सुबह ही एयरपोर्ट से 8 और सस्पेक्ट आए हैं. एयरपोर्ट से आने वालों में काफी लोग पॉजिटिव पाए जा रहे हैं. LNJP में 40 बेड्स का डेडिकेटेड ओमिक्रॉन वार्ड था, लेकिन संख्या बढ़ने के बाद अब यहां बेड्स की संख्या 100 कर दी गई है.

वहीं पश्चिम बंगाल भी ओमिक्रोन पहुंच गया है, केरल में चार नए केस मिले हैं, देश में ओमिक्रोन का आंकड़ा कुल 77 हो गया है. महाराष्ट्र में ओमिक्रोन के 4 और मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या 32 हो गई. मुंबई में 31 दिसंबर तक धारा 144 लागू कर दी गई है.

ओमिक्रोन वेरिएंट के बढ़ते मामले

महाराष्ट्र- 32

राजस्थान- 17

दिल्ली- 10

केरल- 5

गुजरात- 4

कर्नाटक- 3

तेलंगाना- 2

पश्चिम बंगाल- 1

आंध्र प्रदेश- 1

तमिलनाडु- 1

चंडीगढ़- 1

डेल्टा से भी ज्यादा खतरनाक ओमिक्रोन

आशंका है कि ओमिक्रोन के फैलने की रफ्तार डेल्टा से भी ज्यादा है. ऐसे में जनवरी में देश पर वायरस का प्रकोप हो सकता है. 2 दिसंबर को जहां देश में सिर्फ 2 केस थे. 14 दिसंबर को केस 44 हुए और 16 दिसंबर को केस 77 पर पहुंच गए हैं यानी 14 दिन में केस 36 गुना हो गए.

ऊपर से दोहरा खतरा है. पहला खतरा तो उन लापता लोगों का है जो विदेश से वापस लौटने के बाद से गायब है. मुरादाबाद की खबर दिखाए जाने के बाद से 80 लोगों को ट्रेस किया जा चुका है लेकिन 50 लोग अब भी लापता हैं. दूसरा खतरा चुनावी राज्यों में भी जहां चुनावी माहौल गरमाता जा रहा है. लेकिन रैलियों में न मास्क दिख रहा है और न ही सामाजिक दूरी. ऐसे में एक ओमिक्रोन मरीज भी सुपर स्प्रैडर बन कर ओमिक्रोन फैला सकता है.