मुख्यमंत्री नीतीश कुमार चाहते हैं कि बिहार के किसी भी कोने से लोग अपनी सवारी के माध्यम से महज चार से पांच घंटे में ही राजधानी पटना पहुंच पाएं. इसके लिए केंद्र व राज्य सरकार के स्तर पर कवायद की जा रही है. उम्मीद की जा रही है कि सीएम नीतीश का यह ड्रीम प्रोजेक्ट शीघ्र ही पूरा हो जाएगा. दरअसल दिसंबर तक बिहार में 4 राष्ट्रीय उच्च पथों का निर्माण पूरा हो जाएगा. इन 4 नेशनल हाइवे में पटना-बख्तियारपुर, छपरा-गोपालगंज, फारबिसगंज से आईसीटी जोगबनी सहित किशनगंज शहर में फ्लाइओवर भी शामिल है. इन सभी सड़कों पर आवागमन शुरू हो जाने से मुख्यमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट, काफी हद तक साकार होता दिख रहा है.

मिली जानकारी के अनुसार पटना-बख्तियारपुर एनएच-30 के निर्माण के लिए करीब 50 किलोमीटर की लंबाई के लिए लगभग 1172 करोड़ की योजना थी. इसका निर्माण 26 सितंबर 2011 से शुरू हुआ था और इसे 24 मार्च 2014 तक पूरा होना था, लेकिन यह समय सीमा 31 दिसंबर 2021 तक बढ़ा दी गई है. इस बार इसका निर्माण समय पर पूर्ण होने की पूरी संभावना है.

छपरा-गोपालगंज NH-531 की 94 किलोमीटर की लंबी सड़क के निर्माण के 642 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं. इसे 7 दिसंबर 2015 से शुरू किया गया था और इस से 6 दिसंबर 2017 तक पूरे होना था, लेकिन इसकी समय सीमा बढ़ाकर 30 अक्टूबर 2021 तक की गई है. इस साल तक इसकी भी पूरी तरह से काम समाप्त होने की संभावना है.

फारबिसगंज से आइसीपी, जोगबनी एनएच का काम भी लगातार चल रहा है. लगभग 247 करोड़ की लागत से 18 अप्रैल 2016 से फारबिसगंज से आइसीपी, जोगबनी एनएच 57 ए पेव्ड सोल्डर के साथ दो लेन का निर्माण होना है. इसे पूरा करने की समय सीमा 17 अप्रैल 2018 थी. हालांकि बाद में इसकी समय सीमा बढ़ाकर 31 दिसंबर 2021 की गई थी. अब यह काम समय पर पूरा होने की संभावना है.

इन तीन नेशनल हाइवे के अलावा किशनगंज शहर में बन रहे फ्लाइओवर के समानांतर नये फ्लाइओवर का निर्माण होना है. 3.18 किमी की लंबाई में 129 करोड़ रुपये की लागत से 30 जून, 2018 से इसका निर्माण शुरू हुआ था. इसे पूरा करने की समयसीमा 28 जून, 2020 तक थी. बाद में इसे भी बढ़ाकर 31 दिसंबर, 2021 किया गया था. अब इसकी भी तय समय पर इसे पूरा होने की संभावना है.

इन चारो राष्ट्रीय उच्चपथों के निर्माण का कार्य पूरा हो जाने से पटना, से पूर्णिया, किशनगंज, अररिया, सारण, गोपालगंज जैसे जिलों के लोग पटना महज चार घंटे में पहुंच पाएंगे. इन सड़कों से बिहार के बेगूसराय, दरभंगा, मधुबनी, सुपौल, मधेपुरा, मुजफ्फरपुर, छपरा, सीवान, गोपालगंज, और चंपारण क्षेत्र को अत्यधिक फायदा होगा. इन इलाकों से भी पटना आना-जाना आसान हो जाएगा.