वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण कृषि और कृषि-प्रसंस्करण उद्योग के विशेषज्ञों के साथ बजट 2022 से पहले सलाह लेना शुरू करेंगी. वह COVID-19 महामारी से पहले के कंज्‍मशन रेट को हासिल करने और विकास को बढ़ावा देने के लिए उद्योग निकायों, किसान संगठनों और अर्थशास्त्रियों सहित विभिन्न दिग्‍गजों से इनपुट मांगेंगी.

सकल घरेलू उत्‍पाद की वृद्धि दर 9.5 प्रतिशत रहने का अनुमान

चालू वित्त वर्ष के दौरान विकास दर दहाई अंक में रहने की उम्मीद है. आरबीआई ने अपनी नवीनतम द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा में 2021-22 में सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर 9.5 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है. सरकार ने सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 6.8 प्रतिशत के राजकोषीय घाटे का अनुमान लगाया है.

कल से शुरू होंगी बैठकें

वित्त मंत्रालय ने कहा, “वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण आगामी आम बजट 2022-23 को लेकर 15 दिसंबर 2021 से नई दिल्ली में विभिन्न हितधारक समूहों के साथ बजट पूर्व सलाह शुरू करेंगी.

1 फरवरी को आएगा बजट

बजट 2022-23 संसद के बजट सत्र की पहली छमाही के दौरान 1 फरवरी को पेश किए जाने की संभावना है जो आमतौर पर हर साल जनवरी के अंतिम सप्ताह में शुरू होता है. वित्त मंत्री कल दोपहर को कृषि और कृषि-प्रसंस्करण उद्योग के विशेषज्ञों के साथ अपना पहला बजट पूर्व मंथन करेंगी.

2022 पर फोकस रहेगा बजट का

अगले वर्ष के बजट में मांग बढ़ाने, रोजगार सृजन और अर्थव्यवस्था को निरंतर 8 प्रतिशत से अधिक रेट पर रखने जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों को संबोधित करना होगा. 2022-23 का बजट ओमिक्रोन वैरिएंट के बढ़ते मामलों की पृष्ठभूमि में आएगा. हालांकि, तेजी से टीकाकरण के कारण अर्थव्यवस्था पर इसका प्रभाव कम गंभीर होने की संभावना है. वित्त मंत्रालय की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत 2020-21 के COVID-19 आर्थिक संकुचन से निकलने के मामले में दुनिया की कुछ ही अर्थव्यवस्थाओं में से एक होगा.