राजधानी दिल्‍ली और आसपास के इलाकों की हवा की गुणवत्ता में पिछले कुछ दिनों से सुधार देखने को मिल रहा है, लेकिन यह अभी भी ‘खराब’ श्रेणी में बनी हुई है. इस वजह से सांस लेना मुश्किल है.

सोमवार (6 दिसंबर) की सुबह दिल्‍ली के साथ गाजियाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा और फरीदाबाद में भी जहरीली हवा का असर कम हुआ है. वहीं, सभी इलाके रेड जोन से बाहर हो गए हैं. हालांकि अभी भी हवा की गुणवत्ता खराब होने की वजह से हालात चिंताजनक हैं.

आज सुबह दिल्‍ली में एक्‍यूआई 284 से नीचे बना हुआ है. साफ है कि हवा में लगातार सुधार हो रहा है. वहीं, रविवार को दिल्‍ली के मेजर ध्‍यानचंद स्‍टेडियम के अलावा नरेला, बवाना, रोहिणी, पंजाबी बाग, वजीरपुर, मुंडिका और कर्णी सिंह शूटिंग रेंज रेड जोन थे. इस दौरान ग्रेटर नोएडा के नॉलेज पार्क 4 में एक्‍यूआई 435 था, जो कि आज 197 है. जबकि पिछले कुछ दिनों से प्रदूषण की जबरदस्‍त मार झेल रहे फरीदाबाद में एक्‍यूआई 200 से नीचे पहुंच गया है.

हालांकि आज राष्ट्रीय राजधानी दिल्‍ली में धुंध की वजह से विजिबिलिटी कम हुई है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के आंकड़ों के अनुसार लोधी रोड में एयर क्वालिटी इंडेक्स 282 है, जोकि खराब श्रेणी में है. हालांकि अब सभी इलाके रेड जोन से बाहर आ गए हैं.

इससे पहले रविवार को राष्ट्रीय राजधानी में वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) बहुत गंभीर श्रेणी में दर्ज किया गया था. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के मुताबिक, दिल्ली में एक्यूआई 305 दर्ज किया गया. फरीदाबाद में एक्यूआई 296, गाजियाबाद में 288, गुरुग्राम में 174 और नोएडा में एक्यूआई 273 दर्ज किया गया था. बता दें कि शून्य से 50 के बीच एक्यूआई को ‘अच्छा’, 51 से 100 ‘संतोषजनक’, 101 से 200 ‘मध्यम’, 201 से 300 ‘खराब’, 301 से 400 ‘बहुत खराब’ और 401 से 500 तक के एक्यूआई को ‘गंभीर’ माना जाता है.