क्रिप्टोकरेंसी को लेकर सरकार के सकारात्मक मूड को देखते हुए भारतीय क्रिप्टो बाजार में आज सुधार देखने को मिला है. क्रिप्टोकरेंसी बिल पर सरकार की टिप्पणी ने क्रिप्टो निवेशकों और क्रिप्टो मार्केट के लिए सकारात्मक संकेत दिए हैं. कैबिनेट ने निजी क्रिप्टोकरेंसी पर प्रतिबंध लगाने के बजाय विनियमन का सुझाव दिया है. क्रिप्टोकरेंसी को क्रिप्टो संपत्ति के रूप में परिभाषित करने वाला सिक्का भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के नियामक दायरे में होगा.

वैश्विक क्रिप्टो बाजार पूंजीकरण 0.41 प्रतिशत घटकर 2.60 ट्रिलियन डॉलर हो गया है. बिटक्वाइन का बाजार पिछले दिन की तुलना में लगभग 0.07 प्रतिशत गिरकर 41.04 प्रतिशत पर आ गया है.

क्रिप्टोक्यूरेंसी ट्रेडिंग वॉल्यूम 115.29 बिलियन डॉलर था. इसमें 5.93 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है. बिटक्वाइन (बिटकॉइन-Bitcoin) 3.13 फीसदी की तेजी के साथ 44,55,317 रुपये पर कारोबार कर रहा है.

इथेरियम और SHIBA में उछाल

अन्य प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी जैसे इथेरियम में 9.32 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है और वर्तमान में यह 3,56,265.8 रुपये पर ट्रेड कर रहा है. बिनेंस क्वाइन लगभग 4.96 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 48,450 रुपये पर ट्रेड करता देखा गया. वहीं पोलकाडॉट में 6.48 प्रतिशत की गिरावट के साथ 57.59 रुपये पर कारोबार करता देखा गया. SHIBA में 10.76 और DOGE में 7 प्रतिशत का इजाफा देखने को मिला है.

सरकार ला रही है बिल

संसद का शीतकालीन सत्र चल रहा है. सत्र में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि बिटकॉइन को भारत में करेंसी के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं है. साथ ही बताया कि भारत सरकार बिटकॉइन के लेनदेन का कोई डेटा कलेक्ट नहीं करती है. उन्होंने कहा कि संसद के शीतकालीन सत्र में सरकार क्रिप्टोकरेंसी से संबंधित विधेयक पेश कर सकती है, जिसमें निजी क्रिप्टोकरेंसी को बैन करने और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की संभावित डिजिटल करेंसी को रेगुलेट करने के लिए ढांचा तैयार करने की बात कही गई है.