दूरसंचार विभाग ने भारतीय नागरिकों को भारत में एलन मस्क की स्टारलिंक इंटरनेट सेवाओं को नहीं खरीदने की चेतावनी दी है. दरअसल, देश में अभी तक कंपनी को इसका लाइसेंस नहीं मिला है. दूरसंचार विभाग ने एलन मस्क की कंपनी को ‘सैटेलाइट-आधारित सेवाओं की पेशकश करने से पहले लाइसेंस हासिल करने’ के लिए कहा है. सरकार ने बताया कि ‘स्टारलिंक इंटरनेट सर्विसेज’ के पास भारत में सैटेलाइट आधारित इंटरनेट सेवाओं की पेशकश करने का लाइसेंस नहीं है.

सरकार ने कहा ‘यह पता चला है किमेसर्स स्टारलिंक ने भारत में सैटेलाइट आधारित स्टारलिंक इंटरनेट सेवाओं की प्री-सेलिंग/बुकिंग शुरू कर दी है. स्टारलिंक  की वेबसाइट से भी यही स्पष्ट होता है, जिसमें भारतीय क्षेत्र में यूजर्स द्वारा सैटेलाइट आधारित इंटरनेट सेवाओं को बुक किया जा सकता है.’

सरकार ने लोगों को दी चेतावनी

स्टारलिंक को भारत में सैटेलाइट आधारित सेवाएं प्रदान करने के लिए दूरसंचार विभाग से ‘अपेक्षित लाइसेंस’ प्राप्त करने की जरूरी है. सरकार ने नागरिकों को चेतावनी भी दी है. सरकार ने कहा है ‘जनता को सूचित किया जाता है कि उक्त कंपनी के पास सैटेलाइट आधारित इंटरनेट सेवाओं के लिए लाइसेंस नहीं है. स्टारलिंक के पास लाइसेंस नहीं है, इस बात को ध्यान में रखते हुए जनता को सलाह दी जाती है कि वे विज्ञापन में बताए जा रहे स्टारलिंक सेवाओं की सदस्यता न लें.’

सरकार ने कंपनी से सैटेलाइट आधारित संचार सेवाओं को प्रदान करने के लिए भारतीय नियामक ढांचे का पालन करने और ‘तत्काल प्रभाव से भारत में सैटेलाइट इंटरनेट सेवाओं की बुकिंग ना करने’ के लिए कहा है.