बुढ़ापे के वक्त अपने खर्चों को सही तरह से चलाने के लिए हर किसी को एक नियमित आय की जरूरत पड़ती है. अगर आप नौकरीपेशा व्यक्ति हैं तो रिटायरमेंट के बाद आपको पेंशन सुविधा का लाभ मिलेगा, जिससे कि बुढ़ापे के वक्त भी आपके रोजाना के खर्चे सही तरह से मैनेज हो सकें. लेकिन नौकरी ना करने वालों को पेशन सुविधा का फायदा नहीं मिल पाता था. ऐसे लोगों को पेंशन की सुविधा का लाभ देने के लिए और उनको बुढ़ापे के वक्त वित्तीय रूप से सक्षम बनाने के लिए केंद्र सरकार की तरफ से Atal Pension Yojana चलाई जा रही है. 18 से 40 वर्ष की उम्र का कोई भी भारतीय नागरिक खास तौर पर असंगठित क्षेत्र के कामगार श्रमिक इस योजना में निवेश कर पेंशन का लाभ उठा सकते हैं. इस योजना का संचालन पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (PFRDA) के द्वारा किया जाता है.

भारत सरकार के पोर्टल http://www.india.gov.in के मुताबिक, अटल पेंशन योजना (APY) भारत के नागरिकों के लिए असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों पर केंद्रित एक पेंशन योजना है. APY के तहत, 60 साल की उम्र में 1,000 रुपये से 5000 रुपये प्रति माह की न्यूनतम पेंशन ग्राहकों द्वारा योगदान के आधार पर दिया जाएगा. भारत का कोई भी नागरिक APY योजना में शामिल हो सकता हैं. आइए जानते हैं योजना से जुड़ी जानकारियों के बारे में.

क्या है शामिल होने की योग्यता

सरकारी पोर्टल http://www.india.gov.in से मिली जानकारी के मुताबिक, कोई भी भारतीय नागरिक जिसकी उम्र 18 से 40 साल है, अटल पेंशन योजना का लाभ उठाने के लिए पात्र है. साथ ही योजना का लाभ लेने के इक्षुक उम्मीदवार का किसी बैंक बैंक या डाकघर में एक बचत खाता जरूर होना चाहिए. अगर आप 18 साल की उम्र से ही इस योजना में निवेश शुरु करते हैं तो 1,000 की गारंटीड मासिक का लाभ पाने के लिए, हर महीने इस स्कीम में 42 रुपये से निवेश करना होगा. वहीं, 5,000 रुपये की गारंटीड पेंशन पाने के लिए आपको इस स्कीम में हर महीने 210 रुपये से निवेश करना होगा.

इस तरह से खुलवा सकते हैं अपना खाता

अटल पेंशन योजना में अपना अकाउंट खुलवाने के लिए, आपको जिस बैंक में आपका सेविंग अकाउंट है, वहां जाकर APY रजिस्ट्रेशन फार्म भरना होगा, साथ ही आधार और मोबाइल नंबर भी देना होगा. हर महीने की इंस्टॉलमेंट के लिए आपके सेविंग अकाउंट में उपलब्ध राशि का होना जरूरी है.