भारत जल्द ही कोरोना वैक्सीन के तीसरे डोज  के लिए नीति तैयार कर सकता है. इस मुद्दे पर बातचीत को लेकर अगले सप्ताह बड़ी बैठक होने वाली है. इस मामले की जानकारी रखने वाले एक शीर्ष अधिकारी ने न्यूज़18 को यह जानकारी दी है. दरअसल देश में कोरोना वैक्सीन के तीसरे डोज को लेकर एक एक्सपर्ट ग्रुप नीति तैयार करने पर काम कर रहा है. तीसरे वैक्सीन डोज की अनुशंसा शुरुआत में बूस्टर डोज की बजाए अतिरिक्त डोज के तौर पर की जाएगी.

सूत्रों के मुताबिक अतिरिक्त डोज उन्हें दिया जाता है जिन लोगों की इम्युनिटी कम होती है जबकि बूस्टर डोज स्वस्थ लोगों को वैक्सीन के दूसरे डोज के कुछ महीने बाद दिया जाता है. जिन लोगों की किसी भी बीमारी के कारण इम्युनिटी कम है वो सामान्य दो डोज कार्यक्रम के जरिए पूरी तरह सुरक्षित नहीं हैं. इसलिए ऐसे लोगों को अतिरिक्त डोज देने की तैयारी है.

स्वस्थ लोगों के लिए बाद में शुरू किया जा सकता है बूस्टर डोज

स्वस्थ लोगों के लिए बूस्टर डोज की शुरुआत बाद में की जा सकती है. बीते अक्टूबर महीने में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के एक पैनल ने कम इम्युनिटी वाले लोगों के लिए अतिरिक्त डोज की अनुशंसा की थी.

दो डोज लेने वालों की एक डोज वालों से ज्यादा हुई

बता दें कि देश में पहली बार कोरोना वैक्सीन के दो डोज लेने वालों की संख्या एक डोज वालों से ज्यादा हो चुकी है. इस वक्त देश में 38 करोड़ लोगों का फुल वैक्सीनेशन हो चुका है यानी उन्हें वैक्सीन के दोनों डोज लग चुके हैं. वहीं 37.5 करोड़ लोगों ने अब तक एक डोज लिया है. देश में अब तक 115 करोड़ से ज्यादा कोरोना वैक्सीन डोज लगाए जा चुके हैं जिनमें 75,57,24,081 पहले डोज और 38,11,55,604 दूसरा डोज लगाया गया है.