दिल्ली में वायु प्रदूषण कम होने का नाम नही ले रहा है, बल्कि लगातार बढ़ता जा रहा है. गुरुवार को दिन भर धुंध छाई रही. हालांकि पूरी दिल्ली का ओवरऑल प्रदूषण का लेवल 411 AQI रहा, लेकिन दिल्ली के कई इलाकों में जबरदस्त प्रदूषण देखने को मिला है, जो दीवाली के बाद सबसे ज्यादा रहा है.

जिस तरह के हालात दिवाली पर आतिशबाजी के बाद हुए थे उसके बाद भी प्रदूषण कम नहीं हुआ है. 5 नवंबर को दीपावली के अगले दिन दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) लेवल 462 था, भले ही आज दिल्ली का AQI 411 तक पहुंच गया है, लेकिन कई इलाके ऐसे रहे जहां दिनभर दमघोंटू हवा चलती रही.

इन इलाकों में सबसे ज्यादा रहा प्रदूषण

सबसे प्रदूषित इलाकों में आनंद विहार, विवेक विहार, नरेला, रोहिणी, सोनिया विहार, अलीपुर, जहांगीरपुरी, बवाना, आईटीओ, द्वारका, वजीरपुर, आरके पुरम, ओखला, पंजाबी बाग, मुंडका जैसे इलाके शामिल हैं. जहां सबसे खराब स्तर पर प्रदूषित हवा चलती रही. दिनभर धुंध छाई रही.

पराली के धुएं ने रोकी दिल्ली वालों की सांसें

अगर दीवाली के दिन की बात करें तो आनंद विहार का AQI लेवल 346 था, जबकि उसके बाद आतिशबाजी और फिर हरियाणा और पंजाब में पराली का ऐसा धुआं बढ़ गया है. पटाखे तो खत्म हो गए, लेकिन अब पराली के धुंए ने दिल्लीवालों की सांस रोक दी है. जिसकी वजह से आज आनंद विहार इलाके का AQI लेवल 455 पहुंच गया है, जो अब सिर्फ पराली का धुआं है. अब अगले 2 से 3 दिन दमघोंटू हवा लोगों के लिए परेशानी का सबब बन सकती है.

पंजाब और हरियाणा में किसान जला रहे हैं पराली

दिल्ली में आज हालत ये रही कि अधिकतर इलाकों में AQI 400 से ऊपर रहा. पंजाब और हरियाणा में किसानों द्वारा पराली लगातार जलाई जा रही है, जिसकी वजह से धुआं अब दिल्ली पहुंच चुका है और गंभीर होता जा रहा है.