सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के मुखिया और यूपी सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर एक बार फिर अपने विवादित बयान को लेकर सुर्खियों में है. इस बार सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने जिन्ना पर दिए सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव  के बयान पर अपनी प्रतिक्रिया देकर ये विवाद खड़ा कर दिया है. वाराणसी में पत्रकारों से बातचीत करते हुए ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि अगर जिन्ना को देश का पहला प्रधानमंत्री बना दिया होता तो देश का बंटवारा न हुआ होता. बता दें कि यूपी के पूर्व सीएम और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बीती 31 अक्तूबर को हरदोई जिले में एक आयोजित एक रैली में कहा था कि सरदार पटेल, जवाहर लाल नेहरू, महात्मा गांधी और जिन्ना ने मिलकर आजादी की लड़ाई लड़ी और देश को स्वतंत्र करवाया.

अखिलेश के इसी बयान पर जब पत्रकारों ने ओमप्रकाश राजभर से उनका पक्ष जाना तो उन्होने कहा जिन्ना अगर पहले पीएम बनते तो देश का बंटवारा न होता. ओमप्रकाश राजभर यहीं नहीं रुके. सतारूढ़ बीजेपी को सवालों के घेरे में खड़ा करते हुए कहा कि पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी से लेकर पूर्व डिप्टी प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी तक ने जिन्ना की तारीफ की थी, इसलिए उनके विचारों को भी पढ़ा जाए.

बता दें कि पिछले दिनो मऊ में ओमप्रकाश राजभर और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मिलकर एक जनसभा करते हुए आगामी यूपी विधानसभा चुनाव साथ लड़ने का ऐलान किया था. चुनावी तैयारियों के सवाल पर ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि वो और सपा मिलकर चुनाव लड़ेंगे तो बड़ी जीत दर्ज करेंगे. जिन्ना पर दिए गए ओपी राजभर के बयान पर यूपी सरकार के मंत्री मोहसिन रजा ने कड़ा ऐतराज जताते हुए इसे देशद्रोही हरकत बताया.