टीम इंडिया के टी20 वर्ल्ड कप के खिताब का इंतजार और बढ़ गया है. टूर्नामेंट के (T20 World Cup 2021) एक मुकाबले में रविवार को न्यूजीलैंड ने अफगानिस्तान को 8 विकेट से हराकर टीम इंडिया की उम्मीद को ही खत्म कर दिया. टीम इंडिया ने अब तक 5 में से सिर्फ 4 मुकाबले खेले हैं. टीम को अंतिम मुकाबले में 8 नवंबर को नामीबिया से भिड़ना है. टीम 2012 के बाद यानी 9 साल बाद टी20 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में जगह नहीं बना सकी. विराट कोहली टूर्नामेंट के बाद टी20 टीम की कप्तानी छोड़ देंगे. टीम 9 साल बाद किसी आईसीसी टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में जगह नहीं बना सकी.

मैच में अफगानिस्तान ने टॉस जीतकर पहले खेलते हुए 8 विकेट पर 124 रन बनाए. टीम बड़ा स्कोर नहीं बना सकी. नजीबुल्लाह जादरान ने सबसे अधिक 73 रन बनाए. जवाब में न्यूजीलैंड ने लक्ष्य को 18.1 ओवर में 2 विकेट पर हासिल कर लिया. कप्तान केन विलियमसन 40 रन बनाकर नाबाद रहे और टीम को जीत दिलाकर ही वापस लौटे. न्यूजीलैंड ने सुपर-12 के 5 में से 4 मुकाबले जीते. दूसरी ओर टीम इंडिया ने 4 में से अब तक 2 ही मैच जीते हैं. ऐसे में यदि वह अंतिम मुकाबला जीत भी लेती है, तो न्यूजीलैंड की बराबरी नहीं कर सकेगी.

यह टी20 वर्ल्ड कप का 7वां सीजन है. टीम इंडिया 3 बार सेमीफाइनल या उससे आगे पहुंचने में सफल रही है. टीम टूर्नामेंट के पहले सीजन में यानी 2007 में चैंपियन बनी थी. इसके बाद टीम 2009, 2010 और 2012 में राउंड-2 में बाहर हो गई थी. 2014 में टीम फाइनल में जगह बनाने में सफल रही थी. लेकिन उसे श्रीलंका से हार मिली थी. 2016 में टीम सेमीफाइनल में हारकर बाहर हुई. मौजूदा सीजन में टीम फिर अंतिम-4 में जगह नहीं बना सकी.

टूर्नामेंट से पहले एमएस धोनी को टीम इंडिया का मेंटॉर बनाया गया था. लेकिन वे भी कुछ कमाल नहीं कर सके. धोनी की ही कप्तानी में टीम ने 2007 में एकमात्र बार टी20 वर्ल्ड कप का खिताब जीता था.