दीपावली पर अखिलेश यादव ने चाचा शिवपाल यादव को बड़ा तोहफा दिया है. अखिलेश ने कहा है कि, 2022 में होने वाले उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव 2022 में सपा चाचा के दल से और सभी छोटे और क्षेत्रीय दलों से होगा गठबंधन करेगी. चाचा का पूरा सम्मान होगा, हम चाचा का ज्यादा से ज्यादा सम्मान करेंगे. बीजेपी सरकार में महगांई से सब परेशान है, हर चीज में महंगाई है. किसान, नौजवान सब परेशान हैं. बीजेपी सरकार किसानों को खाद तक नहीं दे पा रही है. मुख्यमंत्री योगी सपा सरकार के कामों का उद्घाटन कर रहे हैं.

चाचा-भतीजे में यूपी के पिछले विधानसभा चुनाव के समय से रार चल रही है. इस रार का अंत मुलायम सिंह यादव के जन्मदिन के दिन हो सकता है. बताया जा रहा है कि शिवपाल नेताजी के जन्मदिन को अंतिम उम्मीद के तौर पर देख रहे थे, जो 22 नवबर को है. उससे पहले ही अखिलेश ने गठबंधन का ऐलान करके सारे कयासों को खत्म कर दिया है.

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव कानपुर से और उनके चाचा शिवपाल यादव मथुरा वृंदावन से अपने चुनावी अभियान का शंखनाद कर चुके हैं, लेकिन अभी दोनों अलग-अलग रास्तों पर चल रहे हैं. कार्यकर्ताओं के मन में भी सवाल उठ रहा था कि क्या चाचा- भतीजे की समानांतर चल रही गाड़ी क्या 22 नवंबर को एक ही प्लेटफार्म पर रुकेगी, लेकिन अखिलेश ने अब शिवपाल के साथ-साथ चलने का ऐलान कर दिया है.