सरकार ने भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास को अगले तीन सालों के लिए फिर से आरबीआई के गवर्नर के रूप में नियुक्त किया है. एक आधिकारिक बयान में कहा गया, “मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर के रूप में शक्तिकांत दास को 10.12.2021 से आगे तीन साल की अवधि के लिए या अगले आदेश तक जो भी पहले हो के लिए फिर से नियुक्ति को मंजूरी दे दी है.

कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने गुरुवार देर रात इस फैसले को मंजूरी दे दी. दास पहले वित्त मंत्रालय में आर्थिक मामलों के सचिव थे और उन्हें 11 दिसंबर, 2018 को तीन साल की अवधि के लिए केंद्रीय बैंक के प्रमुख के रूप में नियुक्त किया गया था. बता दें कि उर्जित पटेल के इस्तीफे के बाद शक्तिकांत दास को भारतीय रिजर्व बैंक का नया गवर्नर नियुक्त किया गया था.

कौन हैं शक्तिकांत दास- 26 फरवरी 1957 को जन्मे शक्तिकांत दास इतिहास में एमए और तमिलनाडु कैडर के आईएएस अधिकारी हैं. वो रिटायरमेंट के बाद वर्तमान में भारत के 15 वें वित्त आयोग और भारत के शेरपा जी -20 में सदस्य हैं. उन्होंने भारत के आर्थिक मामलों के सचिव, भारत के राजस्व सचिव और भारत के उर्वरक सचिव के रूप में भी काम किया है.

केंद्रीय आर्थिक मामलों के सचिव के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, शक्तिकांत दास को भारत के सबसे शक्तिशाली लोगों में से एक माना जाता था. आर्थिक मामलों के विभाग (डीईए) के पूर्व सचिव शक्तिकांत दास को पिछले साल जी-20 में भारत का शेरपा नियुक्त किया गया था.

शक्तिकांत दास को दिसंबर 2013 में रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय में सचिव बनाया गया लेकिन मई 2014 में केन्द्र में भाजपा की सरकार बनने के बाद उन्हें वापस वित्त मंत्रालय में राजस्व सचिव बनाया गया.