केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर अंतरराष्‍ट्रीय वाणिज्यिक यात्री उड़ानों पर पाबंदी की अवधि बढ़ा दी है. नागरिक विमानन महानिदेशालय (DGCA) के मुताबिक, भारत से और भारत के लिए सभी इंटरनेशनल पैसेंजर फ्लाइट्स पर रोक को 30 नवंबर 2021 तक के लिए बढ़ा दिया गया है. आसान शब्‍दों में समझें तो पाबंदी के दौरान ना तो कोई अंतरराष्‍ट्रीय यात्री उड़ान भारत में लैंड करेगी और ना ही कोई इंटरनेशनल फ्लाइट यहां से उड़ान भरेगी. हालांकि, विशेष अनुमति वाली अंतरराष्‍ट्रीय उड़ानें पहले की तरह संचालित होती रहेंगी.

किन इंटरनेशनल फ्लाइट्स को मिलेगी मंजूरी

डीजीसीए ने सर्कुलर जारी कर कहा है कि अंतरराष्‍ट्रीय कार्गो ऑपरेशंस और फ्लाइट्स (Cargo Operations/Flights) पर पाबंदी लागू नहीं होगी. इसमें भी डीजीसीए की ओर से मंजूर उड़ानों पर खासतौर से कोई पाबंदी नहीं होगी. डीजीसीए ने कहा है कि संबंधित प्राधिकरण की ओर से चुनिंदा रूट्स पर शेड्यूल्‍ड इंटरनेशनल फ्लाइट्स को भी मंजूरी दी जा सकती है.

समय-समय पर डीजीसीए बढ़ा रहा पाबंदी की अवधि

डीजीसीए ने 26 जून के सर्कुलर में बदलाव कर नया सर्कुलर जारी किया है. साथ ही कहा है कि नया सर्कुलर 30 नवंबर 2021 की रात 11.59 बजे तक वैध माना जाएगा. पिछले महीने डीजीसीए ने शेड्यूल्‍ड इंटरनेशनल कॉमर्शियल पैसेंजर फ्लाइट्स पर 31 अक्‍टूबर 2021 तक की पाबंदी बढ़ाई थी. बता दें कि कोरोना के कहर की वजह से भारत सरकार ने 26 जून 2020 से इंटरनेशनल फ्लाइट पर पाबंदी लगा दी थी. इसके बाद से समय-समय पर नई गाइडलाइंस के जरिये पाबंदी बढ़ाई जा रही है. इस बीच घरेलू फ्लाइट शुरू कर दी गई हैं. एहतियातन हर तरह से इस बात का पूरा ख्याल रखा जा रहा है कि कोरोना का संक्रमण फिर से न फैले, जिससे देश में लॉकडाउन जैसे हालात फिर पैदा हो.