उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ती जा रही हैं. इसी कड़ी में योगी सरकार  ने मलिन बस्तियों में रहने वालों को दीपावली पर बड़ा तोहफा दिया है. सरकारी व नजूल की जमीनों पर बसी मलिन बस्तियों में रहने वालों को उसी स्थान पर मल्टी स्टोरी भवन बनाकर पक्के मकान दिए जाएंगे. इस मकान का आवंटन 1000 रुपये नाम मात्र का शुल्क लेकर किया जाएगा.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को कैबिनेट बाई सर्कुलेशन में इस प्रस्ताव को मंजूरी दी. बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने इसके लिए नगर विकास विभाग के प्रस्ताव उत्तर प्रदेश स्व स्थाने मलिन बस्ती पुनर्विकास नीति-2021 को मंजूरी दे दी है. प्रदेश के शहरी क्षेत्रों में मलिन बस्तियों में लोग झोपड़ी डाल कर रहने को मजबूर हैं. मुख्यमंत्री के निर्देश पर नगर विकास विभाग ने गुजरात की तर्ज पर मलिन बस्तियों में रहने वालों को पक्के मकान बनाकर देने का का प्रस्ताव तैयार किया. मुख्य सचिव की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय सक्षम प्राधिकारी का गठन किया जाएगा. नगर निगमों में मंडलायुक्तों और पालिका परिषद और नगर पंचायतों में डीएम की अध्यक्षता में कमेटी बनाई जाएगी.

बताया जा रहा है कि कमेटी की देखरेख में मकानों का निर्माण कराने से लेकर आवंटन तक का काम किया जाएगा. इन मकानों को निजी पार्टनर से बनवाया जाएगा. इसके लिए उसे कुल क्षेत्रफल की आधी जमीन दी जाएगी और आधी पर मल्टी स्टोर भवन में मकान बनवाया जाएगा. इसके साथ इनके लिए सामुदायिक सुविधाएं भी विकसित की जाएंगी. इसके लिए 50,000 रुपये का कार्पस फंड बनाया जाएगा. बता दें कि प्रदेश में सस्ता मकान देने को लेकर कोई योजना न होने की वजह से बहुत से गरीब लोग मकान नहीं खरीद पा रहे हैं. इसे ध्यान में रखते हुए योगी सरकार ने सस्ता मकान दिलाने का वादा किया था.