भारत के उभरते टेबल टेनिस खिलाड़ी पायस जैन ने कमाल कर दिया. पिछले कुछ समय से पायस लड़कों के अंडर-17 वर्ग में लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं, जिसका इनाम उन्‍हें इस वर्ग में दुनिया का नंबर एक खिलाड़ी बनकर मिला. पायस विश्व रैंकिंग में शीर्ष पर पहुंचने वाले दूसरे भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी बन गये हैं. उनसे पहले यह उपलब्धि मानव ठक्कर ने हासिल की थी, जो जनवरी 2020 में अंडर-21 वर्ग में नंबर एक रैंकिंग पर काबिज हुए थे.

पायस दिल्ली के पहले खिलाड़ी हैं जो अंतरराष्ट्रीय टेबल टेनिस महासंघ (आईटीटीएफ) की विश्व रैंकिंग में शीर्ष पर पहुंचे हैं. वह यह उपलब्धि हासिल करने वाले सबसे युवा भारतीय हैं. पायस ने इस सत्र में अंडर-17 वर्ग में तीन खिताब जीते, जबकि अंडर-19 वर्ग में उन्होंने दो कांस्य पदक हासिल किये.

उन्‍होंने डब्‍ल्‍यूटीटी यूथ कैलेंडर में जर्मनी के खिलाड़ी टॉम को कड़े फाइनल मुकाबले में 32 से मात देकर पहला अंडर 17 खिताब जीता था. इसके एक सप्‍ताह बाद उन्‍होंने बेल्जियम के टॉम क्‍लोसेट को हराकर दूसरा खिताब जीता था. उन्‍होंने पिछले सप्‍ताह कजाखस्‍तान के खिलाड़ी को इस वर्ग का खिताब जीता था.