कोरोना के दौरान पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष हवाई सफर करने वाले डोमेस्टिक पैसेंजरों की संख्‍या में करीब 20 फीसदी का इजाफा हुआ है. डायरेक्‍ट्रेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन की रिपोर्ट के अनुसार इस वर्ष जनवरी से लेकर सितंबर 511 लाख से अधिक पैसेंजरों ने सफर किया है, जो पिछले वर्ष की तुलना में करीब 91 लाख अधिक हैं. यानी कोरोना की दूसरी लहर के बाद पैसेंजरों की संख्‍या में लगातार इजाफा हो रहा है.

डीजीसीए (DGCA) की रिपोर्ट के अनुसार जनवरी 2020 से सितंबर 2020 तक नौ माह में हवाई सफर करने वाले पैसेंजरों की संख्‍या 440.60 लाख थी, जो इस वर्ष इसी अवधि में बढ़कर 531.11 लाख पहुंच गई है. पूरे साल में पैसेंजरों की संख्‍या में 20.54 फीसदी का इजाफा हुआ है और माहवार 79.23 फीसदी तक बढ़ोत्‍तरी हुई है. रिपोर्ट के अनुसार सितंबर माह में सबसे अधिक टिकट मौसम की वजह से कैंसिल हुए हैं. इसका आंकड़ा कुल कैंसिल हुए टिकट में 37 फीसदी है. वहीं दूसरे नंबर पर कमर्शियल कारण रहा है.

रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2020 की पहली तिमाही के शुरुआती दो माह माह यानी जनवरी और फरवरी में कोरोना न के बराबर था. इसी वजह से इस दौरान 329.12 लाख पैसेंजरों ने सफर किया था, जबकि इस वर्ष करीब  233 लाख पैसेंजरों ने सफर किया है. वहीं पिछले वर्ष की दूसरी तिमाही में सबसे कम पैसेंजरों ने सफर किया था, इसमें 22 लाख के करीब पैसेंजरों ने सफर किया था, जबकि इस वर्ष 109 लाख पैसेंजरों ने सफर किया है. वहीं इस वर्ष की तीसरी तिमाही में 187 लाख पैसेंजरों ने सफर किया है, जबकि इस अवधि में पिछले साल 88 लाख लोगों ने ही हवाई सफर किया था.

प्राइवेट एयर लाइंस और एयर इंडिया की तुलना

पिछले साल की तुलना में इस वर्ष एयर इंडिया का मार्केट शेयर एक फीसदी बढ़ा है. इस वर्ष प्रावइेट एयर लाइंस का 87.2 और एयर इंडिया का 12.8 फीसदी मार्केट शेयर है, जबकि पिछले वर्ष प्राइवेट का 88.8 फीसदी और एयर इंडिया का 11.2 फीसदी शेयर रहा है.