मौसम विभाग की चेतावनी का असर नैनीताल समेत कई जगहों पर दिखने लगा है. भारी बारिश के चलते चारधाम यात्रा को अचानक रोकना पड़ा है. प्रदेश में भारी बारिश से 65 सड़कें बंद हो गईं, जिस कारण हजारों यात्री फंस गए हैं. सबसे अधिक केदारनाथ में 2700 यात्री फंसे हैं. उत्तराखंड में बारिश से बिगड़े हालातों पर गृह मंत्री अमित शाह ने भी फोन पर इसकी जानकारी ली है. सीएम ने पर्यटकों पर खासतौर पर नज़र रखने के निर्देश जारी किए हैं. बारिश में फंसे लोगों का जरूरत पड़ने पर हेलीकॉप्टर करने को भी कहा गया है.

बता दें, मौसम खराब होने के चलते चारधाम यात्रा को पूरी तरह रोका गया है. सभी जिलों में बारिश के हालात के चलते सरकार अलर्ट हो गई है. कई जगहों पर यात्री फंसे हुए हैं. बद्रीनाथ में दो हजार यात्री मौजूद हैं, वहीं केदारनाथ में 2700 और गंगोत्री में 300 यात्री मौजूद हैं. सभी यात्रियों को हालात सामान्य होने तक धाम में ही रोका गया है. आपदा प्रबंधन मंत्री धन सिंह रावत ने कहा है कि प्रशासन यात्रियों को हर सुविधा उपलब्ध करा रहा है. कल से लगातार बारिश जारी है. तीर्थयात्रियों से फिलहाल यात्रा टालने का अनुरोध किया गया है. यात्रियों के लिए होटल और धर्मशाला में ठहरने की व्यवस्था की गई है.