उत्तर प्रदेश के मथुरा में राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक ट्रक में सवारी बन चढ़े बदमाशों ने चालक को बंधक बना सात करोड़ रुपए की कीमत के करीब नौ हजार मोबाइल फोन लूट लिए. चालक की पिटाई कर घायल अवस्था में कर उसे रास्ते में फेंक दिया. घटना के बाद यूपी एमपी सीमा का मामला बताकर पुलिस ने घंटों एफआईर दर्ज नहीं की. झांसी में बबीना टोल पार करते ही बदमाशों ने मुनीष से मारपीट की और उसे बंधक बना लिया. आरोपियों ने चालक को मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले में सड़क पर फेंक दिया और ट्रक लेकर भाग गए.

पुलिस अधीक्षक नगर मार्तण्ड प्रकाश सिंह ने बताया, ‘ओप्पो मोबाइल कंपनी के प्रबंधक सचिन मानव द्वारा दर्ज शिकायत कराई गई है. शिकायत में उन्होंने बताया कि कि फर्रुखाबाद जिले का चालक मुनीष यादव पांच अक्टूबर की सुबह ग्रेटर नोएडा से ट्रक में मोबाइल फोन लदवाकर बेंगलुरु के लिए निकला था. फरह थाना क्षेत्र के ग्वालियर बाईपास से दो लोग सवारी बनकर ट्रक में बैठ गए. झांसी में बबीना टोल पार करते ही बदमाशों ने मुनीष से मारपीट की और उसे बंधक बना लिया. आरोपियों ने चालक को मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले में सड़क पर फेंक दिया और ट्रक लेकर भाग गए.

बताया गया है कि मोबाइल कंपनी के प्रबंधक ने श्योपुर में रिपोर्ट दर्ज कराने का प्रयास किया तो पुलिस ने मथुरा में वारदात की शुरुआत होने का हवाला देते हुए रिपोर्ट दर्ज करने से इनकार कर दिया. बाद में आगरा में अपर पुलिस महानिदेशक से शिकायत की गई जिसके बाद मामला दर्ज किया गया. पुलिस अधीक्षक ने बताया कि ट्रक में रियलमी और ओप्पो कंपनी के 8990 मोबाइल फोन थे, जिनकी कीमत सात करोड़ रुपये के करीब है. बदमाश खाली ट्रक को मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले के मानपुर थाना क्षेत्र के सोमरसा गांव में छोड़कर भाग गए. ट्रक मानपुर पुलिस के कब्जे में है लेकिन, वहां की पुलिस ने वारदात मथुरा में होने का हवाला देते हुए रिपोर्ट दर्ज नहीं की.

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि जांच के लिए पुलिस की टीम गठित की गई है. मामले में मध्य प्रदेश पुलिस से भी संपर्क किया जा रहा है. सीसीटीवी फुटेज एवं सर्विलांस के माध्यम से बदमाशों की लोकेशन का पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है.