केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह तीन दिवसीय दौरे पर अंडमान और निकोबार पहुंचे हैं. गृहमंत्री शाह ने पोर्ट ब्लेयर में सेल्युलर जेल का दौरा कर विनायक दामोदर सावरकर को श्रद्धांजलि अर्पित की है. वहां एक कार्यक्रम में बोलते हुए अमित शाह ने कहा कि देश भर के लोगों के लिए अंग्रेजों द्वारा बनाई गई ये सेल्युलर जेल सबसे बड़ा तीर्थ स्थान है. इसीलिए सावरकर जी कहते थे कि ये तीर्थों में महातीर्थ है, जहां आजादी की ज्योति को प्रज्वलित करने के लिए अनेकों लोगों ने बलिदान दिए हैं.

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि आज स्वतंत्रता आंदोलन की इस तपोस्थली और संकल्प स्थली पर जब मैं आया हूं, तब अनेक स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान और उनके संकल्प को सम्मान के साथ मैं नमन करता हूं. उन्होंने आगे  कहा कि विजयादशमी के दिन को हम पूरे भारतवर्ष में बुराई पर अच्छाई की विजय के प्रतीक के रूप में मनाते हैं. आजादी का ये तीर्थ स्थल भी बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक है, यहीं पर एक संकल्प लिया गया था कि भारत माता को कोई गुलाम नहीं रख सकता.