अगर आप फ्रेशर्स हैं तो आपके पास एक सुनहरा मौका है. दरअसल, देश की दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी इंफोसिस (Infosys) ने बुधवार को कहा कि वह इस साल करीब 45,000 फ्रेशर्स को कंपनी में हायर करेगी. इंफोसिस की तरफ से यह ऐलान ऐसे समय में आया है, जब उसका एट्रिशन रेट यानी की कंपनी को छोड़कर कर्मचारियों के जाने का दर काफी बढ़ गया है और आईटी कंपनियों के बीच अच्छे टेक्नोलॉजी टैलेंट को हायर करने की होड़ मची हुई है.

इंफोसिस के सीओओ (UB) प्रवीण राव ने बताया, “मार्केट में मौजूद सभी संभावनाओं का लाभ उठाने के लिए, हम अपने कॉलेज ग्रेजुएट हायरिंग प्रोग्राम को इस साल बढ़ाकर 45,000 तक ले जाएंगे. इसके अलावा हम अपने कर्मचारियों के हेल्थ और वेलनेस उपायों, रिस्किलिंग प्रोग्राम और करियर ग्रोथ के मौके सहित दूसरी जरूरत पर ध्यान देना जारी रखेंगे

Infosys Q2 Results: प्रॉफिट 11.9% बढ़कर 5,421 करोड़ रुपये रहा

वहीं, इंफोसिस ने बुधवार को चालू वित्त वर्ष (2021-22) की दूसरी तिमाही के अपने वित्तीय नतीजे घोषित कर दिए. कंपनी का कंसोलिडेटेड नेट प्रॉफिट चालू वित्त वर्ष की सितंबर में समाप्त दूसरी तिमाही में 11.9 फीसदी बढ़कर 5,421 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी ने 4,845 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था.

शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कंपनी ने कहा कि तिमाही के दौरान उसकी आमदनी 20.5 फीसदी बढ़कर 29,602 करोड़ रुपये पर पहुंच गई, जो एक साल पहले समान तिमाही में 24,570 करोड़ रुपये थी.