स्वतंत्रता के 75 वें साल में मनाए जा रहे आजादी के अमृत महोत्सव के तहत 18 अक्तूबर को उत्तर प्रदेश विधानमंडल का विशेष सत्र आयोजित होगा. सूत्रों के मुताबिक राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद इस विशेष सत्र को संबोधित करेंगे. वहीं विशेष सत्र को लेकर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने अपनी सहमति दे दी हैं. दरअसल, पिछले दिनों राष्ट्रपति ने अपने दौरे के दौरान विधानसभा देखने की इच्छा ज़ाहिर की थी. इस विशेष अवसर पर योगी सरकार कुछ खास राजनीतिज्ञों को आमंत्रित करने की तैयारी कर रही है. रविवार को कैबिनेट बाई सर्कुलेशन इस विशेष सत्र को बुलाने संबंधी संसदीय कार्य विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई. विधानसभा चुनाव की सरगर्मी के बीच योगी सरकार अमृत महोत्सव को भी अहमियत दे रही है.

इस विशेष संयुक्त सत्र में विधानसभा व विधान परिषद सदस्य शामिल होंगे. इससे पहले भी योगी सरकार गांधी जयंती पर विशेष सत्र बुला कर महात्मा गांधी पर लंबी चर्चा का आयोजन कर चुकी है. इसके अलावा सतत विकास के लक्ष्य पर भी विशेष सत्र आहूत किया जा चुका है. वैसे विधानमंडल के सामान्य सत्रों की बात करें तो अगस्त में ही मानसून सत्र सम्पन्न हुआ था जिसमें अनुपूरक बजट पास कराया गया था.

अब एक और अनुपूरक बजट लाने के लिए नवंबर-दिसंबर में शीतकालीन सत्र होगा. इसके अलावा अगले वर्ष के शुरुआत में चार महीने (अप्रैल से जुलाई तक )के लेखानुदान के लिए भी विधान मंडल सत्र आहूत किया जाएगा. उस समय विधानसभा चुनाव होने वाले होंगे.