लखीमपुर खीरी हिंसा में आरोपी आशीष मिश्रा आखिरकार शनिवार को पुलिस के सामने पेश हुआ. बताया गया था कि वह सुबह 11 बजे क्राइम ब्रांच ऑफिस पहुंचेगा, लेकिन इससे 15 मिनट पहले ही वह पहुंच गया. आशीष मिश्रा बीजेपी के सदर विधायक योगेश वर्मा के साथ स्कूटी से पुलिसलाइन पहुंचा. इधर, लखीमपुर में हुई हिंसा में मारे गए पत्रकार रमन कश्यप के घर निघासन पहुंचे पंजाब कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने अपना अनशन तोड़ दिया है. पत्रकार रमन कश्यप की बहन ने सिद्धू को दूध पिलाकर उनका व्रत तुड़वाया. सिद्धू ने आरोपी की गिरफ्तारी तक अनशन का ऐलान किया था.

आपको बता दें कि लखीमपुर हिंसा के आरोपी आशीष मिश्रा की पेशी के लिए क्राइम ब्रांच के दफ्तर की सुरक्षा कड़ी कर दी गई थी. किसी भी तरह की अशांति की आशंका से बचने के लिए चप्पे-चप्पे पर पुलिस की तैनाती की गई थी. इससे पहले शुक्रवार को लखीमपुर खीरी हिंसा पर सीएम योगी ने कहा कि ये घटना दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण है. सरकार इसकी तह तक जा रही है. लोकतंत्र में हिंसा की जगह नहीं है. चाहे वह कोई भी हो कानून सबके लिए समान है, कानून सबके साथ समान रूप से व्यवहार भी करेगा. लेकिन हाईकोर्ट की ये रूलिंग भी है कि गिरफ्तारी से पहले पर्याप्त साक्ष्य भी होने चाहिए.