पीएम मोदी को मिले तोहफे व उपहारों की ई-नीलामी का गुरुवार को आखिरी दिन था. प्रधानमंत्री मोदी को मिले उपहारों की ई-नीलामी में धार्मिक कलाकृतियों ने लोगों को अपनी ओर खूब आकर्षित किया. धार्मिक कलाकृतियों के अलावा ओलंपियनों के खेल उपकरणों की बोली सबसे अधिक लगी.

बता दें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेंट किए गए प्रतिष्ठित उपहारों और स्मृति चिन्हों की ई-नीलामी का तीसरा दौर 17 आयोजित किया गया. पीएम मोदी ने कहा था कि ई-नीलामी से होने वाली आय ‘नमामि गंगे’ पहल में उपयोग की जाएगी. नरेंद्र मोदी भारत के पहले प्रधानमंत्री हैं, जिन्होंने देश की जीवन रेखा – पवित्र नदी गंगा के संरक्षण और कायाकल्प के महान कार्य के लिए उन्हें मिले सभी उपहारों की नीलामी की है.

दरअसल, ई-नीलामी में सबसे अधिक 140 बोलियां सरदार पटेल की मूर्ति के लिए मिली तो टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड मेडल विजेता नीरज चोपड़ा की ओर से पीएम मोदी को दी गई जैवलिन (भाला) के लिए सबसे अधिक 1.5 करोड़ रुपये की बोली लगी.

बता दे, नीरज चोपड़ा के जैवलिन के अलावा भवानी देवी की ऑटोग्राफ वाली फेंस की 1.25 करोड़ रुपये की बोली लगी है तो सुमित अंतिल के जैवलिन के लिए एक खरीदार 1.002 करोड़ रुपये देने को तैयार हुआ. टोक्यो 2020 के पैरालंपिक खिलाड़ियों के हस्ताक्षर वाले अंगवस्त्र की कीमत एक करोड़ रुपये लगी. लवलीना बोरगोहेन के बॉक्सिंग दस्ताने की कीमत 91 लाख रुपये लगाई गई है.

गौरतलब हो कि नीरज चोपड़ा ने 16 अगस्त को आयोजित भारतीय ओलंपिक दल के सम्मान समारोह के दौरान द्वारा उपयोग किए जाने वाले ओलंपिक सामान ई-नीलामी के लिए रखे गए थे. नीरज का भाला नॉर्डिक स्पोर्ट्स द्वारा निर्मित है और बाजार में इसकी कीमत 80,000 रुपये है. पिछली बार सितंबर 2019 में 2,770 वस्तुओं की नीलामी हुई थी. पिछली बार भी आय की राशि नमामि गंगे योजना के लिए दान की गई थी.