कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) ने गौतम गंभीर के नेतृत्व में सनसनीखेज खेल दिखाया था. पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज ने 2011 और 2017 के बीच फ्रेंचाइजी का नेतृत्व किया और उन्हें दो बार खिताब जितवाया. हालांकि, रास्ते अलग होने के बाद भी केकेआर अच्छा खेल दिखाता रहा. हालांकि उन्होंने 2018 में प्लेऑफ के लिए क्वॉलिफाई किया, लेकिन इसके बाद टीम ने अगले दो सीजन में कठिन समय का सामना किया. मौजूदा आईपीएल 2021 में भी नाइट राइडर्स कुछ खास कमाल नहीं कर पाए हैं. 10 में से 6 मैच टीम हार चुकी है. इसके अलावा केकेआर ने अपनी दिलचस्प रणनीति की वजह से भी सुर्खियां बटोरी हैं.

बता दें, कप्तान ऑयन मॉर्गन को टीम एनालिस्ट नाथन लीमन से कुछ कोड रिसीव करते हुए देखा गया है. यह रणनीति गंभीर को पसंद नहीं आई. उन्होंने अपनी पूर्व टीम को इसके लिए खरी-खोटी सुनाई. अनुभवी खिलाड़ी ने यहां तक ​​कहा कि अगर उनके कार्यकाल के दौरान इस चाल का इस्तेमाल किया जाता तो वह केकेआर की कप्तानी छोड़ देते. स्टार स्पोर्ट्स पर पूर्व भारतीय बल्लेबाज आकाश चोपड़ा के एक सवाल के जवाब में गंभीर का यह बयान आया है. यह पूछे जाने पर कि ऐसा विश्लेषक दिए जाने के बाद उन्होंने क्या किया होता? दो बार के विश्व कप विजेता खिलाड़ी ने कहा कि ऐसे में वह कप्तानी छोड़ देते.

दरअसल, केकेआर को पिछले मैच में चेन्नई सुपर किंग्स के हाथों दो विकेट से हार का सामना करना पड़ा. यह वास्तव में एक रोमांचकारी मुकाबला था, क्योंकि दोनों टीमें कड़े मुकाबले में आमने-सामने थीं. अबू धाबी के शेख जायद स्टेडियम में पहले बल्लेबाजी करते हुए केकेआर ने 20 ओवर में 6 विकेट के नुकसान पर 171 रन का स्कोर बनाया. राहुल त्रिपाठी ने कुछ अच्छे शॉट्स खेले. अंत के ओवरों में नितीश राणा, दिनेश कार्तिक और आंद्रे रसेल ने भी अच्छा खेल दिखाया.

केकेआर के दिए लक्ष्य का पीछा करते हुए सीएसके की तरफ से रुतुराज गायकवाड़ और फाफ डुप्लेसी ने पहले विकेट के लिए 74 रनों की साझेदारी की. हालांकि, तेजी गिरते विकेट मुकाबले में रोमांच पैदा करते रहे, लेकिन तीन बार की चैंपियन सीएसके अंतिम गेंद में मैच जीत गई.